समधी ने समधी को जिंदा फूका, पुलिस सक्रिय होती तो न होता यह काण्ड: पत्नि का आरोप



शिवपुरी। सीहोर थानांतर्गत ग्राम नया विनेगा में रविवार-सोमवार की दरम्यानी रात बेटी की ससुसराल में उसके पिता की जिंदा जलने से मौत हो गई। मृतक को उसका समधी मारपीट कर जबरन अपने घर ले गया था। मृतक की पत्नी कहना है कि आपसी विवाद के चलते जिंदा जला दिया। मृतक की पत्नि का यह भी कहना है कि पुलिस समय पर कार्रवाही करती तो शायद वह बच सकते थे। वही इस मामले में पुलिस का कहना है कि हमने मृतक के मृत्यु पूर्व बयान लिए थे, उसने मारपीट की बात स्वीकार की और कहा कि मैने मारपीट से झुब्ध होकर स्वयं ने आग लगाई है। जानकारी के अनुसार ग्राम दरगवां खोड निवासी भाईजी पुत्र सरवन आदिवासी उम्र ४० वर्ष की सौतेली बेटी रानी की शादी करीब चार साल पहले सीहौर थाना क्षेत्र के ग्राम नया विनेगा निवासी सिरनाम आदिवासी के बेटे राजेश से हुई थी। 

शादी के कुछ समय बाद राजेश मानसिक रूप से बीमार हो गया। इस कारण भाईजी ने अपनी बेटी की शादी पिछोर के ग्राम अचरौनी में किसी व्यक्ति से कर दी। इसी दौरान कुछ समय पहले राजेश के पिता सिरनाम कुछ माह पहले दरगवां पहुंचे और भाई से बोले कि उसकी बहू हो उसके साथ भिजवाए, लेकिन भाईजी के परिवार वालों ने उसे भेजने से मना कर दिया। इस पर दोनो परिवारो के बीच विवाद चलता रहा और मामले की शिकायत खोड चौकी पुलिस को करा दी गई।

बताया जा रहा है कि कि शनिवार को खोड़ चौकी में दोनों पक्षो के बयान हुए जिसमें रानी ने यह कहते हुए मना कर दिया की राजेश मानसिक रूप से बीमार है। इसके बाद दोनो पक्ष अपने-अपने घर चले गए। मृतक की पत्नी सुखबती का कहना है कि शनिवार को रानी का ससुर चार मोटर साईकलो सेे कई लोगों के साथ उसके घर आया और उसके पति की मारपीट कर उसके साथ ले गए, जहां उसके पति को जिंदा जलाकर उसकी हत्या कर दी गई। 

सुखबती के अनुसार उसने इस बात की शिकायत खोड चौकी भी की लेकिन उसकी कोई सुनवाई नही की गई। इसके बाद उसके डायल १०० को इस बात की सूचना दी जिसके बाद रात १० बजे उसके बयान दर्ज किए गए। सुखबती का कहना है कि यादि पुलिस समय पर उसकी सुनवाई कर लेती तो शायद उसकी हत्या नही होती। 

इस संबंध में जब मृतक के समधी सरवन से बाती की गई तो उसका कहना है कि वह कल राजीनामा के लिए गए थे, जहां उसके साथ गए एक व्यक्ति ने भाईजी की मारपीट कर दी तो वह उसक बचाने की मंशा से अपने साथ घर ले गया जहां सभी लोगो ने खाना खाया और सो गए। तभी आधी रात मृतक ने स्वंय को आग के हवाले कर आत्महत्या कर ली।  

इस मामले में सीहोर थाना प्रभारी हुकुम सिंह मीणा का कहना है कि हमने मृतक भाईजी के मृत्यु पूर्व बयान लिए थे तो उसने मारपीट की बात कही थी। उसने आग स्वंय लगाई थी यह बात उसने स्वीकार की थी। अभी इसी खोड चौकी के प्रभारी से संपर्क नही हो पाया है संपर्क होते ही उनका बयान प्रकाशित कर दिया जाऐगा। 
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

-----------

analytics