प्रशासन ने सहयोग नहीं किया तो दलित सरपंच जनसहयोग से भरावा रहे है कुएं

पोहरी। जिले के पोहरी तहसील ने अल्प बारिश के चलते गर्मियो से ही पूर्व क्षेत्र में पानी की समस्या एक विकराल रूप धारण कर चुकी है इस समस्या पर अधिकरी व जन प्रतिनिधियो द्वारा ध्यान नही दिया जा रहा है इस लिए क्षेत्र में पानी की विकराल समस्या उत्पन्न हो चुकी है पोहरी क्षेत्र की बात करे तो लगभग आधा सैकड़ा ग्रामीण क्षेत्र में ग्रामीण जन 3 से 4 किमी दूर से पानी ला रहे है। जबकि कुछ क्षेत्रों में ग्रामीण गंदा पानी पीने को मजबूर है इस क्षेत्र में पीएचई विभाग की बजह से यहां समस्या और विकराल रूप धारण कर चुकी है  जहां पीएचई विभाग द्वारा पेयजल हेतु अभी तक कोई ठोस एवं स्पष्ट रणनीति तैयार नही की गई। पीएचई के अधिकारी सिर्फ जायजा लेने आते है और बापस चले जाते है। 

पोहरी तहसील में मुख्यालय की ग्राम पंचायत कृष्ण गंज में 6 माह से नल जल योजना बंद पड़ी हुई है दलित महिला सरपंच द्वारा पोहरी प्रशाशनिक अधिकारियो से लेकर कलेक्टर ,प्रभारी मंत्री,विधायक पीएचई विभाग तक कृष्ण गंज में उत्पन जल संकट के बारे में पूर्व में ही अवगत करा चुके है। इसके बाद भी जनप्रतिनिधि से लेकर प्रशासन ने जनता की इस पुकार को नहीं सुना इसके बाद दलित सरपंच द्वारा ग्रामवासियो को पेयजल संकट से उभारने के लिए ग्राम पंचायत के जागरूक लोगो सहित स्वयं से चंदा करके जनता की प्यास बुझाने की रणनीति तैयार की है। 

कृष्ण गंज पंचायत में आज से ही कुओ में जनता के सहयोग से टेंकर डालना शुरू हो गए आज शिखरचंद जैन एव पप्पू सिठेले ने कुओ में टेंकर डलवाए क्षेत्र की जनता इस समस्या से काफी परेशान हो रही है और पोहरी क्षेत्र के जन प्रतिनिधि इस ओर कोई ध्यान नही दे रहे है। जहा पोहरी क्षेत्र के लोग बार बार यही बोल रहे है कि चुनाव के समय जन प्रतिनिधि क्षेत्र की जनता को याद कर लेते है पर इस जल संकट पर किसी का ध्यान नही है।

पीएचई की नाकामी का दंश झेलते पोहरी की जनता
पोहरी क्षेत्र में अभी कुछ माह पूर्ब पीएचई बिभाग द्वारा फेरबदल किया गया जिसमें क्षेत्र के लिए नए अधिकारी नियुक्त किये गए है जिनके द्वारा लगातार न तो क्षेत्र में भ्रमण किया जाता और न ही पेयजल हेतु कोई ठोस कार्य किये जाते। कई ग्रामो में महीनों से हेण्डपम्प बन्द डलें है जिनकी जानकारी तक विभागीय अधिकारी लेने नही जाते है। 

ऐसे में पेयजल संकट के लिए स्पष्ट रणनीति तैयार करने में पीएचई बिफल नजर आ रही है। जहां क्षेत्र की जनता पानी के लिए दर-दर भटक रही है। ऐसे में जनप्रतिनिधियो द्वारा भी पोहरी क्षेत्र से किनारा सा कर लिया है जिस कारण लोगो को पेयजल संकट से झूझना पड़ रहा है।

पोहरी के समाज सेवी आए सहयोग के लिए सामने 
पोहरी की ग्राम पंचायत कृष्णगंज में पेयजल संकट गहराता जा रहा है। जहां इस बार प्रसाशन द्वारा पेयजल के लिए न तो कोई ठोस कदम उठाए ओर न ही पेयजल के लिए टेंकर परिवहन की अनुमति दी जिस कारण कृष्णगंज क्षेत्र के नागरिक पानी के लिए परेशान हो रहे है। यहां तक कि यह संकट कुँए के सूख जाने के कारण ओर बढ़ गया।

प्रसाशन की मदद न मिलने से सरपंच प्रतिनिधि पप्पू सिठेले ने लोगो से मिलकर जनसहयोग से कुँए में टेंकरो से पानी डालाने के लिए लोगो को बुलाया जिनमे शहर के जय माई बिल्डिंग मटेरियल के शैलू-शनि भदौरिया, शिखरचंद जैन,योगेंद्र जैन,अभिषेक शर्मा,पप्पू सिठेले,रिंकू-भानू त्रिवेदी, शिशुपाल धाकड़,सहित शहर के कई समाज सेवी सहयोग के लिए आगे आये।

इनका कहना है-
पेयजल  समस्या के लिए प्रसाशन सहित जनप्रतिनिधि तक को अबगत करा दिया है लेकिन कोई मदद न मिलने से समाजसेवीओ द्वारा पेयजल संकट से निपटने के लिए आगे आये है।
रामकली धानुक,सरपंच
Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics