पीपीसी: काउन्सलरो ने किया फैबीकॉल जैसा काम, टूटते परिवार जोडे प्यार के मजबूत जोड में

शिवपुरी। परिवार परामर्श केन्द्र शिविर लगातार परिवारो में खुशिया लौटाने का कार्य कर रहा है,पिछले 1 वर्ष में पीपीसी ने 150 परिवारो से गायब हुई एकता और खुशी को वापस करने का काम किया है, अनेक परिवारो के छोटे-छोटे झगडे जो परिवार के बिखराव का कारण बन रहे थे उन परिवारो को पीपीसी के कुशल काउन्सलरो में फैवीकोल जैसा मजबूत जोड लगा दिया, जिससे यह परिवार टूटने से बच गए। 

आज स्थानीय पुलिस कंट्रोल रूम में शुक्रवार को आयोजित परिवार परामर्श केन्द्र के शिविर में कुल 31 को प्रस्तुत किया गया। इसमें जहां 14 पति-पत्नियों के बीच समझौता कराया गया वहीं एक सास और बहू के बीच में समझौता कराके एक ही दिन में 15 प्रकरणों में समझौता करा के अब तक का ऐतिहासिक रिकॉर्ड स्थापित किया गया है। 

6 प्रकरणों में न्यायालय जाने की समझाईश दी गई। तो वहीं सात प्रकरणों में एक पक्ष उपस्थित हुआ था।  एक प्रकरण को पुनरू परामर्श हेतु अगली दिनांक दी गई है। वहीं दो प्रकरणों में दोनों पक्ष अनुपस्थित रहे।

ग्वालियर जॉन के आईजी अंशुमन यादव के कुशल मार्गदर्शन एवं शिवपुरी जिला पुलिस अधीक्षक सुनील पाण्डेय के नेतृत्व में अनवरत चलाए जा रहे जिला पुलिस परिवार परामर्श शिविर के तहत शुक्रवार को आयोजित जिला पुलिस परिवार परामर्श केन्द्र के शिविर में परामर्शदाताओं के प्रयास और पारिवारिक समझाइश से 14 बिछड़े पति.पत्नी में सुलह कराकर उन्हें एक साथ रहकर जीवन बिताने के लिए राजी किया गया। 

वहीं एक प्रकरण में सास और बहू के बीच चल रहे संपत्ति विवाद में पारिवारिक समझौता कराने में उल्लेखनीय सफलता प्राप्त करके 15 परिवारों को टूटने  से बचाया गया। लिखना प्रासंगिक होगा कि विगत एक वर्ष से चलाए जा रहे इन शिविरों में 15 प्रकरणों में समझौता कराना अब तक का सबसे बड़ा कीर्तिमान है। 

शिवपुरी निवासी अंजना का विवाह पुरानी शिवपुरी निवासी राम के साथ हुआ था पति प्राईवेट जॉव करता है और पत्नि ने घर की आर्थिक हालत सुधारने के लिए मनिहारी की दुकान घर पर शुरू कर दी। इस दुकान को लेकर सास और बहू के बीच कलह हुई जो पति पत्नि के बीच तलाक का कारण बन गई। विगत 6 माह से पत्नि मायके में रह रही थी और उसके दो लडक़े भी थे। 

काउन्सलरों ने अपनी कुशल समझाईश से इन दोनों के बीच गिले सिकवों को दूर किया और जहां पत्नि ने बिना पति की अनुमति के पुनरू दुकान नहीं खोलने का वचन दिया। तो पति ने भी पत्नि की सभी आवश्यकतायें पूर्ति करने का वादा किया। 

एक अन्य प्रकरण में बड़ौदी निवासी लालू ने रामश्री के साथ लव मैरिज की थी। मगर इन दोनों के परिवारों के बीच इस विवाह को लेकर सहमति नहीं बन पाई थी। जिसके चलते पति-पत्नि के बीच में भी विवाद के हालात निर्मित हो गए थे। काउन्सलरों की शानदार काउन्सलिंग के परिणाम स्वरूप जहां दोनों परिवारों के बीच समझौता हुआ वहीं पति-पत्नि भी एक साथ जीवन बिताने के लिए पुनरू तैयार हो गए। इन दोनों को परिवार के द्वारा एक प्लॉट देने की भी सहमति हुई। जिस पर वह अपना मकान बनाकर रहेंगे। 

एक अन्य प्रकरण में ग्वालियर निवासी रामलाल का शिवपुरी निवासी कल्पना के साथ विवाद चल रहा था। इनकी शादी को महज डेढ़ वर्ष हुआ था और पत्नि पिछले 6 माह से अलग रह रही थी। इनके बीच विवाद का मुख्य कारण पति का फ स्टेशन था क्योंकि लडक़ी वर्तमान में पटवारी के पद पर पदस्थ है वहीं लडक़ा बेरोजगार है और पढ़ रहा है। इसी के चलते छोटी-छोटी बातों को लेकर अनावश्यक विवाद था। 

इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार पाण्डेय, डीएसपी महिला सैल आनंद राय, जिला संयोजक आलोक एम इंदौरिया, वरिष्ठ काउन्सलर श्रीमती सीमा-सुनील पाण्डेय, महिला सेल प्रभारी कोमल परिहारए उमा मिश्रा सहित पीपीसी के कार्यकर्ता उपस्थित थे। 

Share on Google Plus

Legal Notice

Legal Notice: This is a Copyright Act protected news / article. Copying it without permission will be processed under the Copyright Act..

0 comments:

Loading...
-----------

analytics