Monday, May 22, 2017

युक्तियुक्तकरण के विरोध में अध्यापक व शिक्षक हुये लामबंद सौंपा ज्ञापन

शिवपुरी। शिक्षा विभाग मेें प्रचलित युक्तियुक्तकरण प्रक्रिया को लेकर जारी अतिशेष शिक्षकों की सूची में भारी विसंगतियों को लेकर आज शिक्षक व अध्यापक सैकड़ों की संख्या में लामबंद हुये। संकुल प्राचार्यों पर भारी अनियमितता का आरोप लगाते हुये अध्यापकों व शिक्षकों ने सोमवार को जिलाधीश शिवपुरी ओर से डिप्टी कलेक्टर श्री पाण्डेय को ज्ञापन मय प्रमाण के सौंपा। ज्ञापन में सैंकड़ों की संख्या में शिक्षक व अध्यापक उपस्थित थे। 

अध्यापकों ने लगाये यह आरोप 
अध्यापकों व शिक्षकों की अतिशेष सूची संकुल प्राचार्यों से प्राप्त जानकारी के आधार पर प्रदेश स्तर से एजूकेशन पोर्टल पर अपलोड कर जारी कर दी गई है। पोर्टल पर अपलोड सूचियों में व्याप्त विसंगतियों को देख शिक्षकों में सन्नाटा खिच गया है। क्योंकि जारी अतिशेष शिक्षकों की सूची में माध्यमिक विद्यालयों के भृत्यों को शामिल कर दिया गया है।

जिससे उन विद्यालयों के शिक्षक अतिशेष की जद में आ गये हैं। वहीं किसी दूसरे विद्यालय में पदस्थ शिक्षकों व अध्यापकों को दूसरे विद्यालयों में पदांकित बताया गया है। कई शिक्षकों के विषय गलत दर्शाये गये है गणित और अन्य विषयों के शिक्षक आर्ट में और वायलॉजी में प्रदर्शित हो रहे हैं। ग्रेजूऐशन के विषय को न मानते हुये पोष्ट ग्रेजूऐशन के विषयों को दर्शाया जाकर नियुक्ति दिनांक परिवर्तित कर दी गई है। 

सीनियर को जूनियर व जूनियर को सीनियर वताया गया है। पूर्व में जारी आदेशों के पालन में शिक्षक अपनी सेवा पुस्तिकाओं को ऑनलाईन कराकर अपडेट करा देने के बाद सूचियों में भारी विसंगतियां होना सोचनीय विषय है। जारी अतिशेष शिक्षकों की सूची से ऐसा प्रतीत होता है कि विभाग अभी ऑनलाईन प्रक्रिया के लिये तैयार नही है क्योकि विभाग के पास ही अपने कर्मचारियों की सटीक जानकारी नही है। 

वहीं इसके विपरीत पूर्व में जारी प्राईमरी के अतिशेष शिक्षकों की सूची पर सही दावे आपत्तियों को समिति द्वारा अमान्य किय जाने से सहायक अध्यापक भी भारी आक्रोशित दिखे। 

ज्ञापन में सभी संघों ने की सहभागिता 
अध्यापकों एवं शिक्षकों की ओर से यह ज्ञापन राज्य कर्मचारी संघ के जिला संयोजक राजकुमार सरैया द्वारा डिप्टी कलेक्टर श्री पाण्डेय को सौंपा गया। ज्ञापन में प्रमुख रूप से शासकीय अध्यापक संघ के जिलाध्यक्ष धर्मेन्द्र रघुवंशी, स्नेह रघुवंशी, अरविन्द सरैया, मनमोहन जाटव, वन्दना शर्मा, सुनील वर्मा, संजय भार्गव, राजा बाबू खटीक, दिलीप त्रिवेदी उपथित थे। 

अध्यापकों के इस ज्ञापन में कर्मचारी संघों के जिसमें कर्मचारी कांग्रेस के जिलाध्यक्ष राजेन्द्र पिपलौदा, सुशील अग्रवाल, रसीद खांन साविर, कमलकांत कोठारी, मनीष शर्मा, महेश सिरसौद, महेश भार्गव, शिवम पुरोहित, अतुल चौधरी, प्रतिभा गंधर्व, मिथलेश भदोरिया, सुरेन्द्र सिंह जाट, राजेश सैन, मोहर सिंह धाकड़, निर्मल जैन, जेपी श्रीवास्तव, राकेश मिश्रा, बृजकिशोर उपाध्याय, मुकेश मित्तल आदि प्रमुख रूप से शामिल हुये।