Wednesday, May 31, 2017

विनेगा आश्रम: तीन दिन में जमींन खाली नहीं की तो संजय की लाश मिलेगी

शिवपुरी। शहर से सटे विनेगा आश्रम को लेकर विरोध कर रहे आदिवासीयों को बीते रोज कुछ हथियार बंद बदमाशों ने नकाबपोश होकर आकर गरीब आदिवासीयों से जमींन खाली कराने की धमकी दी। इतना ही नहीं अगर जमींन खाली नहीं होगी तो सहरिया क्रांति के संयोजक की हत्या करने की धमकी दे डाली। इस धमकी से आदिवासी डरें सहमें से पुलिस को सूचित किया। पुलिस मौके पर पहुंचती तब तक आरोपी मौके से फरार हो गए। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। 

जानकारी के अनुसार कल शाम जिले के सतनबाड़ा थाना क्षेत्र के बिनेगा आश्रम के पास निवासरत आदिवासीयों के पास तीन कार जिनके नंबर एमपी 06 सीए 0380,एमपी 20 सीएफ 6376 और एमपी 33 बीबी 0898 से सबार होकर 20 से 25 हथियार बंद बदमाश आए और आदिवासीयों को पूछा कि तुम्हारा संयोजक संजय कहा है। जिस पर आदिवासीयों ने बताया कि वह शिवपुरी में है। 

तो कहा कि उसकी क्या है उससे तो हम निपट लेंगे लेकिन तुम मान जाओं और नेतागिरी मत करों और आश्रम की जमींन को खाली कर दो हम तुम्हें फोरलाईन पर 10-10 बीघा जमींन दे देगें। 

जब आदिवासीयों ने जमींन लेने से इंकार किया तो उक्त दबंगों द्वारा कहा कि तुम्हारें घरों पर तो बुलडोजर चलबाना पड़ेगा। सजंय से तो हम निपट लेगें। कहा अगर तीन दिन में उक्त जमींन खाली नहीं कि तो संजय बैचेन की लाश मिलेगी। फिर कौन तुम्हारा हमदर्द बचेगा। इस बात की शिकायत आज सेकड़ो की संख्या में आए आदिवासीयों ने एडीशनल एसपी कमल मौर्य से की। जहां पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है। 

इनका कहना है-
हां कल हमें सूचना मिली थी। जिस पर हम पहुंच गए थे। तब वहां कोई नहीं मिला। वह तो मंदिर के लोग अपनी जमींन देख रहे थे। आदिवासी उससे डर गए। कोई भी बदमाश नहीं आया।
डॉ जय सिंह यादव,थाना प्रभारी सतनबाड़ा

में कल बाहर था तब आदिवासीयों का फोन आया कि कुछ हथियार बंद बदमाश गांव में आए है और बंदूकों की नोंक पर हमें धमका रहे है। और मुझे जान से मारने की धमकी दी है। मेने तत्काल पुलिस को सूचित किया और पुलिस मौके पर पहुंची तब तक बदमाश भाग गए। इस बात की शिकायत सहरिया क्रांति के कार्यकर्ताओं ने आज पुलिस अधीक्षक से की है। इन धमकीयों से सहरिया क्रांति डरने बाली नहीं है। 
संजय बैचेन, संयोजक सहरिया क्रांति