डेली ट्रांसपोर्ट बनी स्लीपर कोच, अब बस नही मालगाडी कहिए...........

शिवपुरी। आपने डेली ट्रांसपोर्टो का नाम सुना होगा। डेली ट्रांसपोर्ट शिवपुरी में बहुत है और यह महानगरो से शिवपुरी के व्यापारियो का समान लाने का काम करती है। और इन्है डेली ट्रांसपोर्ट इस कारण कहा जाता होगा कि यह प्रतिदिन व्यापारियो का समान लाती है। लेकिन अब शिवपुरी की बसे भी डेली ट्रांसपोर्ट का काम रही है, खासकर इंदौर से शिवपुरी आने वाली बसें...........

जानकारी के अनुसार शिवपुरी से सैंकड़ों की संख्या में इंदौर, भोपाल, जयपुर, उदयपुर, दिल्ली, कानपुर, कोटा आदि शहरोंं के लिए स्लीपर कोच बसें संचालित होती है। इन बसों में सवारियों से अधिक मात्रा में लगेज भरा जाता है। बसों में यह लगेज न केवल अंदर बल्कि बसों की छत पर भी लाद दिया जाता है जिससे इन बसों की ऊंचाई और भी अधिक हो जाती है। 

खासबात यह है कि उक्त बसें तेज गति में चलती है और ऊंचाई अधिक होने के कारण कभी भी हादसे का शिकार हो सकती है। इस प्रकार बस संचालकों द्वारा अपने निजी स्वार्थ के लिए न के यात्रियों के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है, बल्कि शासन को भी लाखों रुपए के टैक्स का चूना लगाया जा रहा है। सूत्रों की मानें तो बसों में रुपए लेकर बिना सवारी के भी सामान ढोया जाता है जो अवैधानिक है। 

200 बसों का होता है संचालन
शिवपुरी जिले से करीब 200 बसों का प्रतिदिन संचालन होता है जिनमें दो हजार से अधिक यात्री इन बसों में सफर करते हैं। शिवपुरी में जगह-जगह से संचालित हो रही अधिकतर बसों में कोई सुविधा नहीं है यहां तक कि कई बसों में इमरेजेंसी बिंडो भी नहीं है। पूर्व में बसों में कई बड़े हादसे हो चुके हैं, लेकिन बस संचालक इससे सबक लेने को तैयार नहीं हैं और अपनी मनमानी पर उतारू बने हुए हैं। 

अपनी आय बढाने के चक्कर में यातायात के नियमो का तो उलघन्न हो रहा है साथ में जीएसटी टैक्स की चोरी भी की जा रही है,आम डेली ट्रांसपोर्टो की गाडियो को तो सेलटैक्स विभाग के चेक कर लेता है,लेकिन इन बस बनी मालगाडियो को को कभी भी सेल टैक्स विभाग चेक नही करता है।  इस कारण रात में इन बसों से बिना जीएसटी का माल परिवहन कराया जाता है। 
 
क्या है नियम
नियम के अनुसार बसों में लगेज ले जाने का प्रावधान सिर्फ बस में यात्रा करने वाले यात्रियों को ही है, वह भी निर्धारित सीमा के अनुसार, लेकिन बस संचालकों द्वारा नियमों को ताक पर रखकर निर्धारित सीमा से अधिक लगेज क्विंटलों में ले जाता जाता है। इसके अलावा भी बस संचालकों द्वारा बिना यात्रा करने वाले व्यक्तियों के लगेज को भी भरा जाता है। 

कई स्थानों से होता है बसों का संचालन
बस संचालकों द्वारा न सिर्फ नियम विरूद्ध लगेज ढोया जा रहा है बल्कि बसों का संचालन भी अपने मनमाने तरीके से किया जा रहा है। नियम के अनुसार शहर से बसों का संचालन पोहरी बायपास स्थित नवीन बस स्टेण्ड से किया जाना चाहिए, लेकिन बस संचालकों द्वारा पुराना बस स्टेण्ड, दो बत्ती तिराहे, पोहरी चौराहा से किया जाता है। जगह-जगह से बसों का संचालन होने से यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है।

इनका कहना है
अगर बस संचालकों द्वारा बसों द्वारा लगेज भरवाया जा रहा है तो जल्द ही बसों की चैकिंग कर उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
विक्रमजीत सिंह कंग
आरटीओ शिवपुरी
Share on Google Plus

About Yuva Bhaskar

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.

0 comments:

-----------