मनमाने विद्युत बिलों से त्रस्त पब्लिक ने कर्मचारीयों को कूटा, कुर्सी छोडक़र लगा दी दौड़

शिवपुरी। बिजली के अनाप शनाप और मनमाने बिल आने से परेशान लोगों का धैर्य अब टूटने लगा है। कस्टम गेट पर बिल ठीक कराने आए लोगों को जब राहत नहीं मिली तो लोगों ने हंगामा मचाना शुरू कर दिया। आक्रोशित लोग यही नहीं रूके  और उन्होंने बिजली कंपनी के कर्मचारियों की गिरेबान पकडक़र उन्हें कुर्सियों से उतारकर बाहर खींच लिया जिससे वहां अफरा तफरी मच गई और बिलों में संशोधन कर रहे कर्मचारी कुर्सियां छोडकर भाग गए। काफी देर तक चले इस घटनाक्रम के बाद बिजली अधिकारी मौके पर आए। जिन्होंने उग्र लोगों को समझाया और बाहर टेबल लगाकर उनकी समस्याएं सुनी तब कहीं जाकर मामला शांत हुआ। 

जानकारी के अनुसार कमलागंज में रहने वाली जरीना खान और विद्युत उपभोक्ता शहजादी बाई के पुत्र हाफिज खां बिलों में संशोधन कराने कस्टम गेट पहुंचे। जहां पहले से ही काफी भीड़ लगी हुई थी और हर कोई बढ़े हुए बिलों से परेशान था। जरीना ने जब विद्युत बिल संशोधन कर रहे कर्मचारी से उनके बढ़े हुए बिल की समस्या बताई तो उक्त कर्मचारी ने पीडि़त उपभोक्ता का बिल अपने पास रख लिया। 

इसी दौरान पुरानी शिवपुरी का रहने वाला एक अन्य उपभोक्ता उग्र हो गए और उन्होंने जेई रवि चौहान की कार्यप्रणाली को लेकर हंगामा कर दिया और गालीगलौच शुरू कर दी। इसी दौरान जरीना भी उग्र हो गई और उसने उक्त कर्मचारी पर अपनी भड़ास निकालनी शुरू कर दी। पीडि़ता का कहना था कि उसका सितंबर माह का 7249 रूपए का बिल बिजली कंपनी ने दिया था जिसे जमा करने के बाद भी पुन: अक्टूबर माह का बिल 7 हजार रूपए दे दिया और उसने बिजली कर्मचारी की गलेवान पकडक़र कुर्सी से खींच लिया था। 

जरीना इतनी उत्तेजित हो गई थी कि उसे देखकर और पीडि़त उपभोक्ता भी उग्र हो गए जिन्होंने बिजली कार्यालय में जमकर अधिकारियों को गालियां देनी शुरू कर दी। हाफिज खान का कहना था कि वह हर माह बिजली बिल जमा कर रहे है और पिछले दस दिन से वह अक्टूबर माह का बिल निकलवाने के लिए चक्कर काट रहा है, लेकिन उसे बिजली कंपनी के अधिकारी बिल नहीं दे रहे हैं। 

यह कहते हुए हाफिज ने भी और साथियों के साथ मिलकर बिजली कर्मचारी को पकड़ लिया और उसे बाहर लेकर आए। इसी दौरान भीड़ ने उक्त कर्मचारियों को घेर लिया। अपने आपको भीड़ के बीच पाकर उक्त कर्मचारी किसी तरह अपनी जान बचाकर वहां से भागे। 

80 वर्षीय विधवा को थमा दिया 3146 रूपए का बिल 
मनियर में रहने वाली विधवा महिला का एक बत्ती कनेक्शन उसके पति स्व. राधावल्लभ शर्मा के नाम से है। जिसका अगस्त माह का बिल 4940 रूपए आंकलित खपत से थमा दिया था। उस समय किसी तरह वृद्धा ने कर्ज लेकर उक्त बिल जमा कर दिया, लेकिन अगले माह सितंबर का बिल बिजली कंपनी ने मीटर रीडिंग से बढक़र 177 रीडिंग की खपत के हिसाब से 2205 रूपए थमा दिया। 

उस समय पीडि़त वृद्धा ने किसी तरह चक्कर काटकर अपना बिल वर्तमान रीडिंग 2623 के हिसाब से बनवाया, लेकिन अक्टूबर माह का बिल पुन: पीडि़ता को 2784 पिछली रीडिंग और वर्तमान रीडिंग 2916 के हिसाब से 3146 रूपए का थमा दिया जबकि वर्तमान में उनके मीटर की रीडिंग 2686 है। अचानक बढक़र आए इस बिल से वृद्ध काफी परेशान है जिसे बिजली कर्मचारी कम करने के लिए चक्कर लगवा रहे हैं। 

इनका कहना है-
हमें बिजली विभाग द्वारा काम दिया गया है जिसे समझने के लिए हम हर संभव प्रयास कर रहे है और लोगों की समस्याओं को दूर किया जा रहा है कुछ मीटर रीडिंग करने वाले कर्मचारी गड़बड़ कर रहे हैं जिस कारण यह समस्या उत्पन्न हो रही है। ऐसे कर्मचारियों को जल्द हटाया जाएगा और नए कर्मचारी को लगाया जाएगा। जिससे लोगों की समस्याएं दूर होंगी। 
नागेश कामथ डिवीजनल मैनेजर, फीडबैक एनर्जी डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी शिवपुरी
Share on Google Plus

About Yuva Bhaskar

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.

0 comments:

-----------