जन्मकल्याणक जुलूस में मंत्री मलैया करेंगें हैलीकॉप्टर के पुष्पवृष्टि

शिवपुरी। आज 26 नवंबर रविवार को भगवान का जन्म कल्याणक महोत्सव बड़ी धूमधाम और भव्यता के साथ मनाया जायेगा, जिसमें महती धर्म प्रभावना के साथ शिवपुरी शहर में हाथी, घोड़ें, बघ्घी, बैंड-बाजों के साथ बालक आदिकुमार का जुलूस निकाला जायेगा। इस पूरे आयोजन के लिये शिवपुरी शहर को जगह-जगह स्वागत द्वारों और बैनरों के माध्यम से दुल्हन की तरह सजाया गया है, यह जन्म कल्याणक का जुलूस पोलो ग्राउण्ड से प्रारंभ होकर कोर्ट रोड़ होता हुआ माधव चौक पहुँचेगा, जहाँ से गुरुद्वारा, राजेश्वरी रोड़ होता हुआ पुन: पोलोग्राउण्ड जायेगा। जहाँ से यह सेसई जायेगा। और सेसई गौशाला में पाण्डुकशिला पर 12 बजे से 1008 कलशों द्वारा बालक आदिकुमार का अभिषेक किया जायेगा। 

इस पूरे आयोजन की खास बात यह है कि इस पूरे आयोजन में जहाँ समिति की ओर से हैलिकॉप्टर से पुष्पवृष्टि कराई जायेगी वहीं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री माननीय शिवराज सिंह चौहान के प्रतिनिधि के रूप में मध्यप्रदेश शासन के वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया जी कार्यक्रम में शामिल होकर हेलीकॉप्टर से पुष्पवृष्टि करेंगे।

भगवान की भक्ति के लिए भी पूण्य की आवश्यकता: मुनि अजितसागर 
पंचकल्याणक की शुरुआत राग-रंग से हुआ करती है, परन्तु इसका उपसंहार वीतरागता से होता है। पंचकल्याणक महोत्सव में इतने प्रदर्शन का उद्देश्य मात्र इतना है, कि कैसे एक आत्मा ने संसार की परम्पराओं का अंत किया और परमपद मोक्ष को प्राप्त कर लिया। इसी प्रकार जो गृहस्थ वीतरागता की उपासना के साथ थोड़ा सा भी संयम अपने जीवन में स्वीकार करने के भाव करता है, उसका वीतरागता पाने की ओर बढऩे का पुरुषार्थ प्रारम्भ हो जाता है, और निश्चित ही एक न एक भव में उसका कल्याण भी संभव हो जाता है। 

उक्त मंगल प्रवचन पंचकल्याणक महोत्सव के दौरान में आचार्य श्री 108 विद्यासागर जी महाराज के प्रिय शिष्य प्रशममूर्ति श्री 108 अजितसागर जी महाराज ने ने दिये।

उन्होनें कहा कि आज गर्भ कल्याणक के दिन आपकी पूजन का उद्देश्य यह होना चाहिए कि भगवन जैसे आपने संसार मे आने-जाने के क्रम का नाश कर लिया, बैसे ही मेरे जीवन मे वह घड़ी जल्द आये, जब मैं आप जैसा आत्मिक सुख को प्राप्त कर सकूं। संसार की सभी सुख-साधन की चीजों को प्राप्त करना बहुत सुलभ है, परंतु भगवान की भक्ति करने के लिए बहुत पूण्य की आवश्यकता होती है। पूण्य के उदय में पूण्य कर्म का बंध विरले जीव ही कर पाते हैं। 

आज हमारे पास सब कुछ है पर भगवान की आराधना के लिए हमारे पास समय नही है। और हम आत्मिक सुख पाना चाहते हैं। याद रखना संसार के कार्यों में विराम देकर ही सुख की प्राप्ति हो सकती है। ऐलक श्री दयासागर महाराज ने कहा कि गर्भ कल्याणक होने की पात्रता मात्र मनुष्य गति में ही हो सकती है, देव गर्भ कल्याणक मना तो सकते हैं। परन्तु जीवन मे एक भी कल्याणक प्राप्त नही कर सकते। परंतु कल्याणक मनाने वालों के जीवन मे एक दिन ऐसा भी आ सकता है, कि एक दिन उनका कल्याणक मन सकता है। 

ऐलक विवेकानंदसागर महाराज ने कहा कि व्यक्ति जब सच्चे मन से भगवान की भक्ति करता है, तो उस समय उसे जो आनन्द की अनुभूति होती है, उसे शब्दों में बयाँ नही किया जा सकता। क्योंकि भक्ति का आनद महसूस करता है। शव्दों में बयान नही किया जा सकता। उस समय उसका रोम रोम ऐसा आनंद से भर जाता है, कि पूजन करते वक्त भी उसकी आंखों से निकलने लगते हैं। 

श्री सेसई जी पंचकल्याणक महामहोत्सव के दौरान आज प्रात: गर्भकल्याणक की पूजन की गई तत्पश्चात कार्यक्रम स्थल से सेसई मंदिर तक घटयात्रा निकाली गई। दोपहर में माता मरुदेवी की गोद भराई का कार्यक्रम और सीमंती क्रियायें प्रतिष्ठाचार्य बाल ब्र. अभयभैया इन्दौर और सह प्रतिष्ठाचार्य पं. सुगनचंद आमोल, पं. अमित सिंघई इन्दौर के निर्देशन में सम्पन्न हुई इसके अलावा 5 से 15 बर्ष तक के लगभग 150 बच्चों का उपनयन संस्कार भी यहाँ किया गया। 

आज निम्न कार्यक्रम होंगें
आज 26 नवंबर को निम्नलिखित कार्यक्रम यहाँ आयोजित होंगें। प्रात: 6:15 बजे अभिषेक-शांतिधारा, प्रात: 6:45 पर बालक आदिकुमार का जन्म, 7:15 पूजन 8:00 बजे जन्माभिषेक हेतु शचि इंद्राणि द्वारा गर्भ गृह से आदिकुमार को लाकर सौधर्म इन्द्र को सौंपा जायेगा। 8:30 बजे मुनिश्री के मंगल प्रवचन। प्रात: 9:00 बजे से शिवपुरी में जन्म कल्याणक की भव्य शोभायात्रा 3:00 बजे मुनिश्री के मंगल प्रवचन। दयोदय महासंघ अधिवेशन रात्रि 6:45 पर आरती एवं रात्रि 8:45 बजे से पालना एवं बाल क्रीड़ा। पंचकल्याण स्थल तक जाने के लिये प्रतिदिन प्रात: 6 बजे से महावीर जिनालय के सामने से नि:शुल्क बसें हर समय उपलब्ध रहेंगी।

नि:शुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन आज
भगवान के जन्मकल्याणक महोत्सव के अवसर पर नि:शुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन पंचकल्याणक स्थल पर आज दिनांक 26 नवंबर को दोपहर 1 बजे से 4 बजे तक यहाँ किया गया है जिसमें शहर के ख्यातिनाम डॉक्टर्स अपनी सेेबायें देंगें। 
Share on Google Plus

About Bhopal Samachar

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.

0 comments:

-----------