शिवपुरी में आधा दर्जन गांव में महामारी, हजारों ग्रामीण शिकार, स्वास्थ्य विभाग मौन

सतेन्द्र उपाध्याय/शिवपुरी। जिले भर में चिकिनगुनिया ने आधा दर्जन गांवों को अपनी चपेट में ले लिया है। इतना ही नहीं इन सब गांवों में महामारी के हालात निर्मित हो गए है। परंतु स्वास्थ्य बिभाग के अधिकारी उच्च अधिकारीयों को गुमराह करने के लिए टीम लागातार जाने की बात कह रहे है। परंतु धरातल के हालात ही बिल्कुल हटकर है। यहां टीम के नाम पर महज कुछ कर्मचारी पहुंचे है। जो लोगों को सांत्वना देकर बापिस लौट आए है। 

शिवपुरी जनपद पंचायत के अंतर्गत आने वाले ग्राम गोपालपुर, दुल्हारा सहित आसपास के आधा दर्जन ग्रामों में दीपावली के त्यौहार के पूर्व से लेकर आज तक हजारों लोग इस चिकिनगुनिया नामक बीमारी ने अपनी गिरफ्त में ले लिया है। इस बात की जानकारी स्थानीय नागरिकों ने उपस्वास्थ्य केन्द्र के चिकित्सक से लेकर पीएससी सतनवाड़ा तक दी गई, लेकिन इसके बाद भी इन गांवों में आज तक कोई भी स्वास्थ्य विभाग की टीम ने ध्यान तक नहीं दिया जिसका परिणाम यह हुआ कि दिनों दिन इस बीमारी से पीडि़त लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। 

गोपालपुर के ग्रामीणों ने बताया कि दीपावली के त्यौहार से ही लोगों में चिकिनगुनिया बीमारी फैलना शुरू हो गई। गांव में एक भी परिवार ऐसा नहीं है जिस घर में बुखार की गिरफ्त में न हो। चिकिनगुनिया बीमारी से लोगों के हाथ-पैर टूटना, कमजोरी महसूस करना, घुटने एवं हाथों के ज्वाइंटों में दर्द, बोलने में गले में परेशानी होती है, वहीं मुंह में छाले, सूजन जैसी लोगों की समस्याएं सुनने में आ रही हैं। गांव में अभी तक आठ सैंकड़ा के करीब लोग इस बीमारी की चपेट में आ चुके हैं। वहीं गोपालपुर के पास ही स्थित दुलारा गांव में ही दर्जनों की संख्या में लोग इस बीमारी से ग्रसित हैं। 

इसके बाद भी जिले का स्वास्थ्य अमला मौन बना हुआ है। गौरतलब है कि गोपालपुर में उपस्वास्थ्य केन्द्र होने के बाद भी इतनी बड़ी संख्या में लोग इस बीमारी से पीडि़त हैं फिर भी स्वास्थ्य अमले के कानों पर कोई भी जूं तक नहीं रेंगी। ग्रामीण संतोष धाकड़ ने बताया कि तीन-चार दिन से लोग चिकिनगुनिया बीमारी से पीडि़त हैं। गांव के करीब 400 लोग इस बीमारी से पीडि़त है जिनमें से अधिकतर सतनवाड़ा स्वास्थ्य केन्द्र में भर्ती हैं, लेकिन गांव में आज तक कोई भी स्वास्थ्य विभाग का अधिकारी या कर्मचारी नहीं पहुंचा है।

पीडि़त गिरजाधर ने बताया कि मैं चिकिनगुनिया बीमारी से पीडि़त हूं और इलाज कराने के बाद भी अभी तक बीमारी से ग्रसित हूं और अस्पताल में इलाज कराने के लिए भर्ती हूं। यही स्थिति ग्राम दुल्हारा की बनी हुई है। यहां भी दर्जनों लोग चिकिनगुनिया जैसी बीमारी ने लोगों की कमर तोडक़र रख दी हैं।

स्वास्थ्य मंत्री के आने की भनक लगते विभागीय टीम 
शिवपुरी जनपद पंचायत शिवपुरी के अंतर्गत आने वाले गोपालपुर एवं पोहरी विधानसभा क्षेत्र के ग्राम दुल्हारा के साथ-साथ अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में चिकिनगुनिया, मलेरिया, जैसी जानलेवा बीमारियां सुरसा की तरह मुंह फैलाये विगत कई सप्ताहों से फैल रही है। समाचार पत्रों के माध्यम से जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य महकमे को इस तथ्य से अवगत कराया गया। लेकिन इसके बाद भी न तो जिला प्रशासन द्वारा और न ही स्वास्थ्य महकमे द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों का दौरा कर पीडि़त लोगों की खैर खबर ली। स्वास्थ्य विभाग को जैसे ही मंत्री रूस्तम सिंह के शिवपुरी आने की भनक लगी वैसे ही उन्होंने पीडि़त क्षेत्रों में स्वास्थ्य टीमें भेजकर रोगियों का उपचार करना शुरू कर दिया।

उप स्वास्थ्य केन्द्र के कर्मचारी नदारद 
पोहरी तथा शिवपुरी जनपद के अंतर्गत आने वाले ग्राम गोपालपुर एवं दुल्हारा सहित अन्य ग्रामों में शासन द्वारा ग्रामीणों के उपचार हेतु उप स्वास्थ्य केन्द्र बनाए गए हैं। इनके द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के निवासियों का उपचार करना होता है। लेकिन इन स्वास्थ्य केन्द्रों पर पदस्थ कर्मचारियों द्वारा गांव में पीडि़त रोगियों का समुचित इलाज नहीं किया और न ही जिला स्तर पर इस तथ्य की जानकारी वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई। स्वास्थ्य महकमे की टीम जब पीडि़त क्षेत्रों का जायजा लेने पहुंची तब भी गांवों में पदस्थ स्वास्थ्य कर्मचारियों का कोई सहयोग नहीं रहा।  

ग्वालियर, शिवपुरी, सतनवाड़ा में भर्ती कराये मरीज 
चिकिनगुनिया व मलेरिया से पीडि़त गंभीर मरीजों को जिला चिकित्सालय, सतनवाड़ा में भर्ती कराया गया तथा कुछ अतिगंभीर रोगियों को ग्वालियर रैफर कर दिया गया है। जिससे यह तथ्य स्पष्ट होता है कि ग्रामीण क्षेत्रों में चिकिनगुनिया व मलेरिया ने महामारी का रूप धारण कर लिया है। लेकिन इसके बाबजूद भी जिले में पदस्थ स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों द्वारा इस ओर ध्यान देना भी उचित नहीं समझा। जिसकी बजह से ग्रामीण क्षेत्रों में चिकिनगुनिया व मलेरिया ने महामारी का रूप धारण कर लिया। 

स्वास्थ्य महकमे द्वारा नहीं उपलब्ध कराई गई पर्याप्त सुविधायें
गोपालपुर, दुल्हारा ग्राम में चिकिनगुनिया व मलेरिया ने जब महामारी का रूप धारण कर लिया तदुपरांत स्वास्थ्य महकमे की टीम उक्त ग्रामों में पहुंची तथा पीडि़तों का उपचार गाय भैंसों की तरह से एक पॉलिथिन पर डालकर प्रारंभ कर दिया। जब कि स्वास्थ्य महकमे को उक्त तथ्य की जानकारी होने के बाबजूद भी रोगियों को पर्याप्त सुविधायें उपलब्ध नहीं कराई गई। यूं तो गोपालपुर एवं दुल्हारा में स्वास्थ्य केन्द्र है लेकिन वहां से भी कोई व्यवस्था नहीं जुटाई गई। 

इनका कहना है-
आप को गलत जानकारी दी गई गई है कि उप स्वास्थ्य केन्द्र में ताले लगे है। हां सिर्फ गोपालपुर गांव में हाताल जरूर विगड़ गए है। यह तो भारत के एडोस्पियर के चलते होता ही है। पर अब हमारी टीम लगातार गांव में जा रही है और हालात पर पूरी तरह से काबू पा लिया है। अब कोई दिक्कत नहीं है। और न ही कोई ग्रामीण को कोई परेशानी। 
डां एम एस सागर,सीएमएचओ शिवपुरी। 

हां मेरी इस मामले को लेकर सीएमएचओ से बात हुई है। जिसमें सीएमएचओं की पूरी टीम लगी हुई है। अब हालात काबू में आ गए है। में भी कल इस गांव का दौरे पर जा सकता हूं। मै स्वंय जाकर स्थिति देखूंगा। 
तरूण राठी,कलेक्टर शिवपुरी। 
Share on Google Plus

About Bhopal Samachar

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.

0 comments:

-----------