देश के भविष्य को सम्मानित करने का इंडियन पब्लिक स्कूल का निर्णय सराहनीय : श्री सिंधिया

शिवपुरी। आज प्रतिभा सम्मान समारोह में सम्मानित होने वाले बच्चे सिर्फ शिवपुरी ही नहीं, देश और प्रदेश का भविष्य हैं तथा इन प्रतिभाओं को सम्मानित कर इंडियन पब्लिक स्कूल ने एक सराहनीय पहल की है जिसके लिए विद्यालय प्रबंधन बधाई का पात्र है। उक्त उदगार आईपीएस स्कूल में आयेाजित प्रतिभा सम्मान समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने व्यक्त किए। 

इस अवसर पर श्री सिंधिया ने विद्यार्थियों को जीवन में आगे बढऩे के उपयोगी टिप्स भी दिए। सम्मान समारोह में श्री सिंधिया ने हाईस्कूल और इंटरमीडियट परीक्षा में शिवपुरी जिले के प्रावीण्य सूची में आने वाले 18 विद्यार्थियों के अलावा यूपीएससी और पीएससी में चयनित प्रतिभाओं का भी सम्मान किया। 
झींगुरा स्थित इंडियन पब्लिक स्कूल के प्रांगण में आयोजित समारोह में सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपने प्रेरक उद्बोधन में इस बात पर खुशी जाहिर की कि शिवपुरी की प्रतिभाओं ने बेहतरीन प्रदर्शन कर अपनी जन्म भूमि का नाम रौशन किया है। उन्होंने कहा कि आज का प्रतिभा सम्मान समारोह सिर्फ प्रतिभाओं का सम्मान नहीं बल्कि उनकी माताओं का भी सम्मान है, क्योंकि प्रतिभाओं को तरासने में सर्वाधिक महत्वपूर्ण भूमिका उनकी मां की होती है। 

श्री सिंधिया ने तालियों की गडग़ड़ाहट के साथ सम्मानित प्रतिभाओं की माताओं का अभिनंदन किया। उन्होंने कहा कि हमारे जमाने में 60 से 70 प्रतिशत अंक यदि आ जाते थे तो इसे उपलब्धि मानी जाती थी और कहते थे बच्चा प्रथम श्रेणी में पास हुआ है, लेकिन आज तो प्रतिस्पर्धा इतनी घनी है कि 90 और 95 प्रतिशत अंक भी कम पड़ रहे हैं। बच्चों ने 99 प्रतिशत तक अंक प्राप्त किए हैं। 

सरस्वती वंदना और सुमधुर स्वागत गीत के साथ प्रारंभ हुए समारोह में  मुख्य अतिथि सिंधिया का कार्यक्रम के आयोजक इंडियन पब्लिक स्कूल के संचालक ओमप्रकाश कुशवाह, जसवंत कुशवाह सहित विभिन्न विद्यालयों के प्राचार्यों ने स्वागत किया। श्री सिंधिया के सम्मान में स्वागत भाषण विद्यालय के संचालक ओमप्रकाश कुशवाह ने दिया। आभार प्रदर्शन की रस्म अभिषेक शर्मा ने निर्वहन की। कार्यक्रम का संचालन गिरीश मिश्रा और हाजरा कुर्रेशी ने किया। 

सिंधिया का मार्गदर्शन! आत्म अवलोकन करते रहें
कार्यक्रम में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि आगे आपकी असली जिंदगी कॉलेज लाइफ से शुरू होगी। उन्होंने कहा कि आगे बढऩे के लिए कठिन परिश्रम के अलावा कोई रास्ता नहीं है। जिंदगी का रास्ता बहुत कठिन होता है और चुनौतियां घनी होती हैं। ऐसे में परिश्रम के साथ-साथ हर 6 माह में हमें आत्म अवलोकन करना चाहिए कि हम कितना आगे बढ़े हैं। 

इस मूल्यांकन से आप निरंतर प्रगति के पथ पर अग्रसर होंगे। श्री सिंधिया ने विद्यार्थियों से कहा कि दूसरों की अच्छी बातों और गुणों को गृहण करने की हममें ललक होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि विदेशों में विद्यार्थी जब कॉलेज में जाता है तो उसे अपने पैरों पर खड़ा होना पड़ता है। जिससे वह चुनौतियों का सामना करने में पारंगत होता है। पाश्चात्य के इस गुण को हमें गृहण करना चाहिए। 

मैं भी आपके साथ कदम से कदम मिलाकर चल रहा हूं
श्री सिंधिया ने कहा कि स्व. माधवराव सिंधिया प्रथम ने जब शिवपुरी नगरी की स्थापना की थी तो उनकी सोच बड़ी व्यापक थी, लेकिन शनै-शनै परिवर्तन आया और मैं उनके कामों को आगे बढ़ाने की कोशिश कर रहा हूं। श्री सिंधिया ने विद्यार्थियों से कहा कि उनकी यह क्षमता प्रदेश की साढ़े सात करोड़ जन-जन की है। इसके निखार के लिए मैं शिवपुरी में एनटीपीसी इंजीनियरिंग कॉलेज, पावर ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट और मेडिकल कॉलेज की स्वीकृति लेकर आया हूं ताकि आगे बढऩे के लिए मैं भी आपका साथ दे सकूं। 

इन प्रतिभाओं का हुआ सम्मान
सांसद सिंधिया के कर कमलों से सम्मानित होने वाली प्रतिभाओं में अनुभव गुप्ता, रजनी कुशवाह, विजय जाटव, मोना राठौर, अरूण परिहार, बबीता प्रजापति मनपुरा, सलौनी तिवारी, भारती यादव खतौरा, अभिलाषा कुशवाह खनियाधाना, मोहिनी गुप्ता, अंकित सेन, हर्षित बंसल, पूनम धाकड़, सत्यभान पाल बामौरकलां, मंजेश लोधी, विनय मांझी, अमित धाकड़, विद्या गोयल, नवीन गौड़, जूली धाकड़ और वैभव शर्मा शामिल हैं। इनके अलावा पीएससी परीक्षा में डीएसपी के पद पर चयनित इति शर्मा, ट्रेजरी ऑफिसर के पद पर चयनित सिद्धार्थ शर्मा, अशोक सिंह जादौन और प्रतिभा शर्मा को भी सम्मानित किया गया। 
Share on Google Plus

About Yuva Bhaskar

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.

0 comments:

-----------