Friday, August 11, 2017

सुर्खियों में सर साहब​ का यौन शोषण और तबादला मामला

शिवपुरी। जिले भर में इन दिनों एक सर साहब द्वारा नाबालिग लड़कियों का यौन शोषण का मामला सुर्खियों में है। सुर्खियों में इसलिए आ रहा है क्योंकि यह मामला सुर्खियों में आने से पहले ही सुल्टा लिया गया। वर्दीवाले बाबूजी को भी मक्कख मिल गया और विभाग के सरदार जी भी घी निकाल ले गए। इसके बाद मामला शांत रहे, फिर से तूल ना पकड़ जाए इसलिए सर साहब ने मनाचाहा तबादला करवा लिया। अन्याय हुआ तो बस उन निर्धन बालिकाओं के साथ जिन्हे पता ही नहीं कि शिकायत पर कार्रवाई ना हो तो क्या किया जाए। अब यौन प्रताड़ना का यह मामला सभी सरकारी कागजों से गायब है। 

मामला शिवपुरी शहर के दक्षिण में स्थित एक शहर का है। यहां सर साहब का जलवा हुआ करता था। उनके अधिकार क्षेत्र में एक सरकारी घोंसला भी आता था जहां निर्धन लड़कियां रहतीं हैं। कुछ दिनों पहले एक शिकायत चर्चाओं में आई। बताया गया कि सर साहब पर लड़कियों के यौन शोषण का आरोप लगा है। शिकायत सामने आते ही एक साथ दो अधिकारी सक्रिय हुए। एक तो वर्दी वाले भाईसाहब और दूसरे विभाग के सरदार। सर साहब ने सबसे पहले वर्दी वाले भाई साहब से संपर्क किया। कहा जाता है कि पीड़िताओं से भी संपर्क किया गया। उनसे माफी मांगी गई। कुछ मुआवजा भी दिया गया। फिर वर्दी वाले भैया को भी भेंट चढ़ा दी गई। 

इधर विभाग के सरदार तेजी से सक्रिय हुए। इन दिनों बिना जावक पर दर्ज किए नोटिस जारी करने की परंपरा चल रही है। सुना है एक नोटिस सर साहब को भी जारी किया गया। उनके दफ्तर और घटना स्थल का दौरा किया गया। इसी दौरान सर साहब ने विभाग के सरदार को भी सेट कर लिया। विभाग के सरदार ने दफ्तर में तो सर साहब के विरुद्ध नोट दर्ज किया परंतु घटना स्थल पर सर साहब की तारीख में कसीदे पढ़ते हुए लेख किया गया। 

मामला सुर्खियों में आने से पहले ही सुल्टा लिया गया। इसके बाद कोई विवाद ना हो इसलिए सर साहब ने लगे हाथों अपना मनचाहा तबादला भी करवा लिया। कहा जा रहा है कि सरकारी फाइलों में अब ना कोई शिकायत बची है और ना ही नोटिस। बस 2 रजिस्टरों पर टीप है जिसमें मामले को लेकर एक शब्द तक नहीं लिखा गया है। जैसे एक सामान्य दौरा कार्यक्रम के दौरान दर्ज कर दी जाती है। अब देखना यह है कि क्या कोई समाजसेवी व्यक्ति या संस्था उन पीड़िताओं को तलाश पाती है जिन्होंने शिकायत की थी। 

No comments:

Post a Comment

प्रतिक्रियाएं मूल्यवान होतीं हैं क्योंकि वो समाज का असली चेहरा सामने लातीं हैं। अब एक तरफा मीडियागिरी का माहौल खत्म हुआ। संपादक जो चाहे वो जबरन पाठकों को नहीं पढ़ा सकते। शिवपुरी समाचार आपका अपना मंच है, यहां अभिव्यक्ति की आजादी का पूरा अवसर उपलब्ध है। केवल मूक पाठक मत बनिए, सक्रिय साथी बनिए, ताकि अपन सब मिलकर बना पाएं एक अच्छी और सच्ची शिवपुरी। आपकी एक प्रतिक्रिया मुद्दों को नया मोड़ दे सकती है। इसलिए प्रतिक्रिया जरूर दर्ज करें।