Tuesday, August 01, 2017

शहर के मुख्य मार्ग से हटाए गए अतिक्रमण के मलवे को नहीं हटा पायी नगर पालिका

शिवपुरी। नगर के व्यस्ततम मुख्य मार्ग कोर्ट रोड़ पर संजय लॉज के सामने नगर पालिका एवं जनभागीदारी से वर्षो पुरानी पानी की टंकी को तोड़ दिया गया। उल्लेखनीय है कि नगर पालिका को उस जगह रखे हुए वर्षो पुराने अतिक्रमण तोडऩे के साथ-साथ नगर पालिका की प्याऊ उस मार्ग पर स्थाई तौर पर बड़ी महत्वपूर्ण थी क्योंकि शहर का हर व्यक्ति उसी प्याऊ से मुख्य मार्ग होने के कारण अपने कंठ गीले करता था। इसकी वसूली नगर पालिका के कर्ताधर्ताओं से अतिक्रमण तोडऩे वालों से इसलिए की जाना उचित है कि ये किसी का लिखित आदेश नहीं है। 

किन्तु वहां के अतिक्रमण में रखे स्टॉलों का मलबा व प्याऊ का मलबा वहीं आज भी डला हुआ है। इसके कारण प्राचीन कुएं की रौनक को खत्म कर दिया गया है वहीं पर आसपास की महिलाओं के लिए पूजा स्थल मौजूद हैं और एक वहां 50 साल पुराना पीपल देवता का प्राचीन देवताओं की पूजा अर्चना करने के लिए हैं। अब वह महिलायें और धर्मप्रेमी उस मलवे के कारण जमा मलमूत्रों के बीच निकल जाना पड़ा रहा है। जिस कारण वहां संक्रमण रोग फैलने की आशंका बनी हुई है।

इस संबंध में वहां स्थानीय निवासियों ने मध्य प्रदेश के सीएम हेल्पलाईन जिसका नम्बर 4317003 पर रजिस्टर्ड शिकायत में कहा था कि वहां पर उक्त मलबा जो सड़ गया है वह नगर पालिका द्वारा नहीं हटाया जा रहा है। नगर पालिका ने औपचारिकता करने के लिए एक तशला नाली में पड़ी कीचड़ को हटाकर इतिश्री कर दी। आज इस मुख्य मार्ग पर दुर्गन्ध एवं मच्छरों के कारण वहां का आम आदमी एवं राहगीर भयंकर दु:खी है। उल्लेखनीय बात यह है कि उस मुख्य मार्ग से कलेक्टर, एडीएम, एसडीएम, मुख्य नगर पालिका अधिकारी, अध्यक्ष एवं हेल्थ ऑफिसर दिन में दस बाज निकलते हैं लेकिन किसी को कुछ भी दिखाई नहीं देता है। 

No comments:

Post a Comment

प्रतिक्रियाएं मूल्यवान होतीं हैं क्योंकि वो समाज का असली चेहरा सामने लातीं हैं। अब एक तरफा मीडियागिरी का माहौल खत्म हुआ। संपादक जो चाहे वो जबरन पाठकों को नहीं पढ़ा सकते। शिवपुरी समाचार आपका अपना मंच है, यहां अभिव्यक्ति की आजादी का पूरा अवसर उपलब्ध है। केवल मूक पाठक मत बनिए, सक्रिय साथी बनिए, ताकि अपन सब मिलकर बना पाएं एक अच्छी और सच्ची शिवपुरी। आपकी एक प्रतिक्रिया मुद्दों को नया मोड़ दे सकती है। इसलिए प्रतिक्रिया जरूर दर्ज करें।