शिवपुरी: गुरूओं के पूजन के साथ श्रद्धापूर्वक मना गुरूपूर्णिमा महोत्सव

शिवपुरी। गुरू के प्रति श्रद्धा का भाव प्रकट करने के लिए गुरूपूर्णिमा महोत्सव का भव्य आयोजन रविवार को नगर के विभिन्न क्षेत्रों में बड़े उत्साह व श्रद्धा के साथ किया गया। कहीं जगह-जगह भण्डारे हुए तो कहीं गुरूपूजन के साथ गुरूपूर्णिमा का उत्सव मनाया गया। बालाजी धाम मंदिर, श्री बड़े हनुमान जी, पंचमुखी, मंशापूर्ण, श्रीपाताली हनुमान मंदिर, श्रीचिंताहरण मंदिर, झांसी तिराहा स्थित सीता राम मंदिर सहित बिनैगा आश्रम सहित आदि स्थानों पर प्रात: गुरूपूजन हुआ तत्पश्चात दोप.12 बजे से इन सभी स्थानों पर भण्डारे का आयोजन किया गया। मंदिरों पर गुरूओं के प्रति श्रद्धा का भाव रखते हुए कई लोगों ने दान-धर्म कर पुण्य लाभ प्राप्त किया। 

कथा समापन पर हुए विशाल भण्डारे
नगर में श्रीबड़े हनुमान मंदिर पर महामण्डलेश्वर पुरूषोत्तमदास जी महाराज के सानिध्य में आयोजित श्रीमद् भागवत कथा समापर पर नगरवासियों के लिए भण्डारे का आयोजन किया गया जिसमें दूर-दराज से आने वाले हजारों लोगों ने प्रसाद ग्रहण किया। इसी क्रम में श्रीपाताली हनुमान मंदिर महंत लक्ष्मणदास जी महाराज के सानिध्य में प्रात: मंदिर स्थल पर गुरूपूजन हुआ तत्पश्चात आयोजित श्रीमद् भागवत कथा समापन पर विशाल भण्डारा हुआ यहां आसपास के क्षेत्रों सहित दूर-दराज से महंत के शिष्यगण व साधु-संतों की आगवानी हुई और सभी ने मिलकर प्रसाद ग्रहण किया।

इसी क्रम में शहर से 8 किमी दूर स्थित श्रीबांकड़े हनुमान मंदिर पर महंत गिरिराज महाराज के सानिध्य मे बाकड़े मंदिर पर वहीं सीता राम मंदिर झांसी तिराहा पर पं. मोहन प्रसाद शर्मा द्वारा एवं बिनैगा आश्रम के मंहत बज्रानंद जी महाराज गुरूपूर्णिमा महोत्सव मनाया गया।  इस अवसर पर मंदिर परिसर में आसपास के ग्रामीण अंचलों सहित शहरवासियों ने मंदिर पहुंचकर महंत से आर्शीवाद प्राप्त कर गुरूपूजन किया तत्पश्चात मंदिर स्थल पर आयोजित भण्डारे में प्रसाद ग्रहण किया। 

ध्यान, साधना कर ओशोप्रेमियों ने मनाया गुरूपूर्णिमा महोत्सव
गुरूपूर्णिमा के अवसर पर ओशो प्रेमियों ने भी बड़े उत्साह के साथ गुरूपूर्णिमा उत्सव स्थानीय ओशो ध्यान केन्द्र ग्वालियर वायपास पर मनाया गया। यहां ओशोप्रेमियों ने सर्वप्रथम ओशो के चित्र पर प्रात: गुरूपूजन किया तत्पश्चात ओशो ध्यान, सत्संग और साधनाऐं की गई इसके बाद सभी ने मिलकर शांतस्वरूप में बैठकर ओशोआर्शीवचनों का लाभ लिया। इसके बाद देर शाम को संध्या सत्संग हुआ तत्पश्चात सभी ने मिलकर सहभोज में भाग लिया। गुरूपूर्णिमा महोत्सव के इस भव्य कार्यक्रम में ओशो स्वामी निखिल आनंद(गोपालजी स्वर संगम), स्वामी ध्यान निर्दोष(रविन्द्र गोयल),स्वामीप्रेम प्रकाश (प्रकाश सिरोलिया), स्वामी कृष्णानंद (भूपेन्द्र विकल), स्वामी अंकित जैन, स्वामी संजय गर्ग सहित अन्य ओशो प्रेमी शामिल रहे।

श्वेताम्बर जैन मंदिर में गुरूपूजन और भजन संध्या का आयोजन
गुरूपूर्णिमा के अवसर पर शहर के कोर्ट रोड़ स्थित जैन श्वेताम्बर मंदिर में विजय शांति गुरूदेव का पूजन किया गया। जिसमें भव्य संगीतमय प्रस्तुति के साथ गुरूपूजन हुआ। गुरूपूजन का सौभाग्य तेजमल सांखला-दीपक सांखला परिवार द्वारा प्राप्त कर धर्मलाभ अर्जित किया। इस दौरान गुरूपूजन कार्यक्रम में समाज के सभी लोगों ने भाग लिया और कार्यक्रम उपरांत सभी ने प्रसाद स्वरूप सहभोज ग्रहण किया। रात्रि के समय गुरूदेव भक्त मण्डल द्वारा भजन संध्या भी आयोजित की गई जिसमें समाज के बच्चों एवं महिलाओं द्वारा नृत्य व भजनों की शानदार प्रस्तुति दी गई।

आध्यात्मिक गुरू डॉ.रघुवीर सिंह गौर के सानिध्य में मना गुरूपूर्णिमा महोत्सव
गुरूपूर्णिमा के अवसर पर शहर की शगुन वाटिका में आध्यात्मि गुरू डॉ.रघुवीर सिंह गौर के सानिध्य में गुरूपूर्णिमा महोत्सव मनाया गया। इस अवसर पर चरणसेवक डॉॅ.डी.के.सिरौठिया सहित दूर-दराज से आए श्रद्धालुजनों ने पहले गुरूपूूजन किया तत्पश्चात सभी ने कार्यक्रम स्थल पर आयोजित भण्डारे में प्रसाद ग्रहण किया। इस अवसर पर गुरूओं ने अपनी श्रद्धापूर्वक मिष्ठान, माल्यार्पण के साथ गुरू का पूजन किया। कार्यक्रम में शहर ही नहीं बल्कि दूर-दराज से धर्मप्रेमीजन आऐं और उन्होनें मिलकर सपरिवार गुरूपूजन किया। 
Share on Google Plus

About Yuva Bhaskar

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.

0 comments:

Post a Comment

प्रतिक्रियाएं मूल्यवान होतीं हैं क्योंकि वो समाज का असली चेहरा सामने लातीं हैं। अब एक तरफा मीडियागिरी का माहौल खत्म हुआ। संपादक जो चाहे वो जबरन पाठकों को नहीं पढ़ा सकते। शिवपुरी समाचार आपका अपना मंच है, यहां अभिव्यक्ति की आजादी का पूरा अवसर उपलब्ध है। केवल मूक पाठक मत बनिए, सक्रिय साथी बनिए, ताकि अपन सब मिलकर बना पाएं एक अच्छी और सच्ची शिवपुरी। आपकी एक प्रतिक्रिया मुद्दों को नया मोड़ दे सकती है। इसलिए प्रतिक्रिया जरूर दर्ज करें।