Wednesday, July 05, 2017

थाना प्रभारी ने की पीडि़ता की मदद: पिता चला बेटी के बलात्कार का आवेदन दे आया

शिवपुरी। जिले के गोवर्धन का एक मामला ऐसा सामने आया जिससे जिले के पुलिस विभाग में हडकंप की मच गया। लेकिन इस कहानी का सच बाद में सामने आया तो एक पिता और मां का ऐसा कृत्य सामने आया जिसे सुनकर और देखकर लगा कि सचमुच हम कलयुग में प्रवेश कर गए। जैसा कि विदित है कि आज से 2 दिन पूर्व जिले के गोवर्धन थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले ग्राम श्रीपुरा में रहने वाले एक माता-पिता ने आरोप लगाया कि उसके गांव का सरपंच और गोवर्धन थाने के थाना प्रभारी ने मिलकर हमारी नाबालिग बेटी का अपहरण कर बलात्कार किया है। ऐसा आवेदन बेटी के माता-पिता ने  एसपी की जनसुनवाई में दिया था। 

इस मामले  में एसपी सुनील पाडें ने मामले को गंभीरता से लेते हुए पीडि़ता से पूछताछ की तो बताया गया कि पीडि़ता ने कहा कि मेरे पिता वाईसराम आदिवासी और सौतेली मां भभूति बाई ने मिलकर मुझे  वृंदावन आदिवासी निवासी देवरी थाना चिलवानी जिला श्योपुर के साथ मेरा विवाह कर दिया।

विवाह में मुझे पता चला की जिस लडके  के साथ शादी हो रही है वह तो अपंग है परंतु मेरी मां बाप की लाज  हेतु मैं ससुराल चली गई और मुझे वहां जाकर पता चला की मेरी शादी के एवज में मेरी सौतेली मां ने वृंदावन के पिता प्रकाश आदिवासी से 50000 रुपए लिए है और वृंदावन ने शराब पीकर मेरी कई बार मारपीट की और मुझसे  कहता है कि तुझे पैसों से खरीदा है।

इसलिए मेरी नौकरानी बनकर यहां रहना पड़ेगा और तुझे मायके भी नहीं जाने दूंगा इस गम में मैंने कई दिन खाना नहीं खाया जिस कारण मैं बीमार हो गई तो मुझे मेरे ससुराल वाले इलाज हेतु विजयपुर लेकर आए जब मुझे अकेला समय मिला तो मैं बस के द्वारा अपने गांव श्रीपुरा आ गई यहा कुछ दिन रहने पर मेरा ससुर प्रकाश आदिवासी वह मेरा दिव्यांग पति वृंदावन आदिवासी मुझे लेने आए ।

मैंने जब इनके साथ ससुराल जाने से मना कर दिया तो मेरी सौतेली मां और पिता ने मेरी मारपीट की और मुझे जबरदस्ती ससुराल भेज रहे थे तो मैं भागते हुए सरपंच बनवारी  यादव के घर तरफ गई और  उनको मैंने पूरी घटना बताई तो उन्होंने मुझे थाने पर रिपोर्ट करने की सलाह दी और मैंने थाने में जाकर अपनी कहानी पुलिस को बताई। 

पुलिस ने लडकी के परिजनो से कहा कि उसकी मर्जी के बिना वह किसी के साथ नही जाऐगी,और न ही उसके साथ कोई मारपीट कर सकता है। बताया गया है कि लडकी का पति और ससुर लडकी के पिता से अपने पैसे वापस मांगने लगा,तो पिता ने कहा कि में एक-दो दिन बाद कैसे भी लडकी को समझाकर वापस भेज दूंगा। 

इसके बाद मेरे माता-पिता किसी के कहने पर मेरे बलात्कार की शिकायत करने शिवुपरी आ गए। मेरे साथ कोई बलात्कार नही किया गया है। 

No comments:

Post a Comment

प्रतिक्रियाएं मूल्यवान होतीं हैं क्योंकि वो समाज का असली चेहरा सामने लातीं हैं। अब एक तरफा मीडियागिरी का माहौल खत्म हुआ। संपादक जो चाहे वो जबरन पाठकों को नहीं पढ़ा सकते। शिवपुरी समाचार आपका अपना मंच है, यहां अभिव्यक्ति की आजादी का पूरा अवसर उपलब्ध है। केवल मूक पाठक मत बनिए, सक्रिय साथी बनिए, ताकि अपन सब मिलकर बना पाएं एक अच्छी और सच्ची शिवपुरी। आपकी एक प्रतिक्रिया मुद्दों को नया मोड़ दे सकती है। इसलिए प्रतिक्रिया जरूर दर्ज करें।