Monday, June 26, 2017

आदिवासीयों की जमींन को जोत कर बीज डाल गए दबंग

शिवपुरी। एक ओर प्रशासन गरीब आदिवासियों की जमीनों को दबंगों से मुक्त कराने के दावे करता है वहीं प्रशासन की नाक के नीचे पोहरी अनुविभाग के ग्राम नोन्हैटा खुद में गरीब आदिवासियों की जमीन पर गाँव के दबंग यादव और धाकड़ों द्वारा कब्जा कर लिया गया है। हालात यह है कि दबंगों ने गरीब आदिवासियों द्वारा जोती गई जमीन पर खुद का बीज डालकर फसल बोने की तैयारी कर ली है। सहरिया क्रांति एक सामाजिक आंदोलन के सदस्यों ने प्रशासन से माँग की है कि यदि प्रशासन ने आदिवासियों को उनकी जमीनों पर उनका हक वापस नहीं दिलवाया तो सहरिया क्रांति जमीन वापसी के लिए आंदोलन करेगी। 

जानकारी के अनुसार ग्राम नोन्हेटा खुर्द निवासी खेमचंद आदिवासी पुत्र माखन आदिवासी ने बताया कि मेरी तीन बीघा जमीन पर गाँव के ही दबंग सीताराम यादव और उसके साथियों ने जबरन कब्जा कर लिया है। खेमचंद की मानें तो उसके द्वारा जमीन जोतकर फसल बोवनी की तैयारी की जा रही थी तभी गाँव के दबंग यादव वहाँ आ धमके और उन्होंने हम गरीब आदिवासियों को मौके से खदेड़ दिया और हमारी जमीन पर बाजरा का बीज डाल दिया। 

यादवों ने खेमचंद और उसके परिवार को धमकी दी कि यदि दोबारा इस तीन बीघा जमीन के आसपास दिखे तो जान से मार डालेंगे। खेमचंद का कहना है कि उसकी आधा बीघा जमीन पर भी गाँव के ही रामजीलाल धाकड़ के बेटे विजय धाकड़ और किलोई धाकड़ ने जमीन पर कब्जा कर रखा है जो अपनी राजनैतिक पकड़ की धौंस इन गरीब आदिवासियों को देते हैं। 

सीताराम यादव ने कहा कि मैंने अधिकारियों को 90 हजार रुपए दिए हैं और उसने ही मुझे इस जमीन पर कब्जा दिलवाया है जबकि रामजीलाल के बेटों ने बताया कि हमने भी 60 हजार रुपए आधा बीघा जमीन के दिए हैं। अब इस पूरे मामले को लेकर सहरिया क्रांति कलेक्टर तरुण राठी और पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार पाण्डेय से मिलेगी और न्याय की माँग करेगी, यदि प्रशासन ने आदिवासियों के साथ न्याय नहीं किया तो क्रांति के  सदस्य जमीन वापसी के लिए आंदोलन करेगी।

No comments:

Post a Comment

प्रतिक्रियाएं मूल्यवान होतीं हैं क्योंकि वो समाज का असली चेहरा सामने लातीं हैं। अब एक तरफा मीडियागिरी का माहौल खत्म हुआ। संपादक जो चाहे वो जबरन पाठकों को नहीं पढ़ा सकते। शिवपुरी समाचार आपका अपना मंच है, यहां अभिव्यक्ति की आजादी का पूरा अवसर उपलब्ध है। केवल मूक पाठक मत बनिए, सक्रिय साथी बनिए, ताकि अपन सब मिलकर बना पाएं एक अच्छी और सच्ची शिवपुरी। आपकी एक प्रतिक्रिया मुद्दों को नया मोड़ दे सकती है। इसलिए प्रतिक्रिया जरूर दर्ज करें।