Thursday, June 08, 2017

ग्रामीणों को शौचालय की प्रोत्साहन राशि की जानकारी दें: नीतू माथुर

शिवपुरी। जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती नीतू माथुर ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में लोग शौचालय के महत्व एवं उपयोगिता को समझने लगे है। आवश्यकता इस बात की है कि हम उन्हें शौचालय के उपयोग करने हेतु प्रेरित करें। साथ ही खुले में शौच से होने वाली हानियों को भी बताए और शौचालय निर्माण हेतु दो किश्तों में मिलने वाली 12 हजार रूपए की प्रोत्साहन राशि की भी जानकारी दें। जिससे अधिक से अधिक ग्रामीण अपने घरों में शौचालय निर्माण हेतु आगे आ सके।

श्रीमती माथुर आज जिलाधीश कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित बैठक में स्वच्छ भारत अभियान के तहत जिले में बनाए जा रहे शौचालयों की प्रगति की समीक्षा की। बैठक में जिले के अनुविभागीय दण्डाधिकारी सहित शौचालय निर्माण एवं वातावरण निर्माण हेतु नियुक्त किए गए जिला अधिकारी आदि उपस्थित थे। मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती माथुर ने कहा कि खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) करना एक गंभीर कार्य है। 

जिला अधिकारी एवं अन्य अधिकारी जिन्हें इस कार्य के लिए अतिरिक्त जवाबदारी सौंपी गई है, वे अपने कार्य के साथ-साथ ग्राम पंचायतों को ओडीएफ कराने में पूर्ण सहयोग दें। साथ ही लोगों को खुले में शौच से होने वाली हानियों को बताते हुए शौचालय निर्माण हेतु उन्हें प्रेरित भी करें। राज्य स्वच्छता ग्रामीण के संभागीय समन्वयक श्री अतुल त्रिवेदी ने बताया कि इस कार्य में हमें विभिन्न लोगों का सहयोग लेकर खुले में शौच जाने वाले व्यक्तियों को हतोत्साहित भी करना है। बैठक में बताया गया कि जिले में 316 गांव, 126 ग्राम पंचायते खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) हो चुकी है।