Sunday, June 11, 2017

विधायक का एक और वीडियो वायरल: थाने में मिट्टी का तेल डालकर आग लगा दो

करैरा। जिले के करैरा विधानसभा क्षेत्र से काग्रेंस की विधायिका शकुंतला खटीक की परेशानीयां खत्म होने का नाम ही नहीं ले रही है। अब कांग्रेस विधायिका का एक और वीडियों बायरल हुआ है। जिसमें विधायिका अब अपने समर्थकों से कह रही है कि जो होगा सब देख लेेंगे। थाने में मिट्टी का तेल डालों और आग लगा दो। इस वीडियों के सोशल साईट पर बायरल होते ही प्रतिक्रियाओंं की झडी लग गई है। लोग इस पूरे घटनाक्रम को सुनकर जमकर काग्रेंस विधायिका को कोस रहे है। 

विदित हो कि बीते दिनों मंदसौर में फायरिंग के दौरान हुई 6 किसानों की मौत के बाद कागे्रेंस ने मामले में आग में घी डालते हुुए मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री का पुतला करैरा में विधायिका शंकुतला खटीक ने निर्देशन में दहन किया था। पुलते की लम्बाई अधिक होने के चलते पुलिस ने पुतले पर फायर बिग्रेड से पानी डाल कर बुझा दिया था। 

जिसके चलते काग्रेंस विधायिका भडक़ गई और पूरे नियम कानूनों को भूलकर सरेआम कार्यकर्ताओं को भडकाते हुए थाने में आग लगाने की बात कहने लगी। यह मामला सोशल मीडिया पर बायरल होते ही दिल्ली तक पहुँच गया। और लोग इस पर तीखी प्रतिक्रिया देने लगे। हांलाकि किसान आंदोलन के चलते इस मामले को तूल पकडऩे के बाद पुलिस ने इस मामले में कोई भी कार्यवाही नहीं की है। 




किसान आंदोलन नहीं होता तो अब तक हो जाती विधायिका पर कार्यवाही
इस तरह के भडकाऊ भाषण देने के बाद भी आज तक कोई कार्यवाही नहीं होने के चलते काग्रेस विधायिका अपने आप को ठोस समझ रही है और प्रशासन को कमजोर मान रही है। लेकिन विधायिका को यह कौन बताए कि यह अगर यह आंदोलन नहीं होता तब पता चलता कि इस तरह के भडकाऊ भाषण देने का क्या परिणाम निकलता है। 



विधायिका अब दे रही है सफाई
करैरा विधायक भडक़ाऊ भाषण देने के मामले में लगातार सफाई दे रही है। आज जारी बयान में विधायिका ने कहा है कि उनके वीडियों को तोड़ मडौर कर पेश किया गया है। उन्होंने कहा है कि मेने कार्यकर्ताओ से नहीं कहा कि थाने में आग लगा दो। मेरे ऊपर पानी डाला गया था। जिससे में महिला होकर पूरी तरह भींग गई थी। तो मेने कहा कि अगर यह थाना महिलाओं की रक्षा नहीं कर सकता तो थाने में आग लगा दो यह थाने का क्या औचित्व। हांलाकि विधायिका द्वारा जारी बयान सरेआम झूठा साबित हो रहा है। क्योकि विधायिका का उक्त वयान अनपढ़ व्यक्ति सुनकर भी बता देगा की वह क्या कहना चाह चाह रही है। 

विधायिका पर मामला दर्ज कराने शिवसेना और भाजपा ने खोला मौर्चा
कांग्रेस विधायिका की आए दिन जारी हो रहे वीडियों से मुसीवत बड़ती जा रही है। वही दूसरी और इनके भडक़ाऊ बयान के चलते शिवसेना और भाजपा कार्यकर्ता विधायिका पर मामला दर्ज कराने को अड़ गए है। किंतु अभी पूरा प्रदेश किसान आंदोलन से जल रहा है। और अगर काग्रेस विधायिका पर मामला दर्ज होता है तो यह आदोलन और भी भडक़ सकता है। संभत:प्रशासन इसी के चलते इस मामले में कोई भी कार्यवाही करने से बचने का प्रयास कर रहा है।