Friday, June 02, 2017

पक्के अतिक्रमण पर गरजी बुलडोजर, तोड़े 65 स्थाई अतिक्रमण

करैरा। जिले के करैैरा कस्बे में हाईवे पर स्थित नवीन अस्पताल के पास शासकीय जमीन पर वर्र्षो से कब्जा कर पक्के मकान बनाकर रह रहे लगभग 65 अतिक्रमण कारियों को आज नगर पंचायत के अतिक्रमण दस्ते ने  वेदखल कर दिया है। प्रशासनिक अधिकारियों और भारी पुलिस बल की मौजूदगी में की गई इस कार्यवाही में अतिक्रामकों के मकान ध्वस्त कर दिए गए हैं। 

इस दौरान प्रशासनिक अधिकारियों को अतिक्रामकों के विरोध का भी सामना करना पड़ा। लेकिन पुलिस ने उन्हें काबू में कर लिया है। उक्त स्थान पर नवीन अस्पताल और स्कूल के साथ बस स्टेण्ड शिफ्ट होना है। इस कारण प्रशासन ने यह कार्यवाही की है। 

जानकारी के अनुसार झांसी हाईवे पर हॉस्पीटल के साथ स्कूल का निर्माण कराया गया है जहां पास ही शासकीय भूमि पर बस स्टेण्ड का भी निर्माण कराया जाना है, लेकिन उक्त शासकीय भूमि पर लगभग 65 परिवारों नेे पक्के मकान और झोंपडिय़ां बनाकर अतिक्रमण कर लिया था। 

लेकिन अब वहां बस स्टेण्ड पहुंचने के कारण करैरा तहसीलदार ने उक्त अतिक्रामकों को नोटिस जारी कर उन्हें कब्जाई गई शासकीय भूमि खाली करने का निर्देश दिया था, लेकिन इसके बाबजूद भी अतिक्रामकों ने भूमि से कब्जा नहीं हटाया तो आज सुबह आठ बजे नगर पंचायत का अतिक्रमण दस्ता अतिक्रमण तोडऩे वहां पहुंचा लेकिन अतिक्रामकों ने अतिक्रमण नहीं तोडऩे दिया। 

सूचना पाते ही एसडीओपी अनुराग सुजानियां ने आसपास के थानों का पुलिस बल मौके पर बुलाया और एसडीएम सीबी प्रसाद के साथ तहसीलदार नवनीत शर्मा, राजस्व निरीक्षक और पटवारियों के साथ मौके पर पहुंचे जहां उन्होंने अतिक्रामकों का समझाने का प्रयास किया ।

लेकिन वहां मौजूद उमा जाटव, महादेवी आदिवासी, सरोज आदिवासी, राजपाल लोधी, सुल्तान सिंह,  सुरेश लोधी, अतर सिंह जाटव सहित अन्य अतिक्रामकों ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। बाद में पुलिस ने हस्तक्षेप कर शांत कराया और देखते ही देखते वहां बने पक्के मकानों को ध्वस्त कर दिया। झोंपडिय़ां भी  तोड़ दी। यह कार्र्यवाही दोपहर तक चली। जहां अतिक्रमण दस्ते ने पूरा अतिक्रमण तोड़ कर उक्त भूमि को कब्जे से मुक्त कराया। 

इनका कहना है-
पिछले कई वर्षो से 65 अतिक्रामकों ने शासकीय भूमि पर कब्जा कर लिया था लेकिन अब वहां हॉस्पीटल और स्कूल बनकर तैैयार है। वहीं नवीन बस स्टेण्ड भी स्वीकृत हो गया है। जिसका कार्य प्रारंभ करना है, लेकिन अतिक्रामकों के के कारण उक्त निर्माण कार्य शुरू नहीं हो पा रहा है। ऐसी स्थिति में अतिक्रामकों को बेदखल करने की कार्यवाही की गई है। इस दौरान कुछ अतिक्रामकों ने विरोध भी किया लेकिन पुलिस बल ने उन्हें शांत करा दिया और वहां से पूरा अतिक्रमण हटा दिया गया है। 
सीबी प्रसाद, एसडीएम करैरा