Wednesday, May 24, 2017

शासन के आदेेश का अमल ले लाने के लिए संविदा शिक्षकों ने राजे को सौंपा ज्ञापन

​शिवपुरी। संविदा शिक्षकों से अध्यापक बनने के फेर में भटक रहे संविदा शिक्षकों ने अपनी गुहार मध्य प्रदेश शासन की खेल, युवा कल्याण एवं धर्मस्य मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया के यहां लगाई है। सैंकड़ों की संख्या में उपस्थित संविदा शिक्षकों ने अपनी मांगों को लेकर एक ज्ञापन खेल मंत्री को विश्राम गृह पर सौंपा। नियत समय में संविदा से अध्यापक न बनाये जाने की अनियमित्ताओं को लेकर मंत्री महोदया ने नाराजगी व्यक्त करते हुये शीघ्र ही संविलियन कराने के निर्देश दिये। ज्ञापन सौंपने के पश्चात जिला पंचायत सीईओ श्रीमती नीतू माथुर से मुलाकात इन संविदा शिक्षकों ने की जिस पर त्वरित कार्यवाही करते हुये शनिवार तक आदेश जारी करने का आश्वासन सीईओ महोदया ने दिया है। जिला शिक्षाधिकारी श्रीगिल ने वताया इस सबंध में मुझसे जानकारी चाही गई थी जो मैने उपलब्ध करा दी है। 

ज्ञापन के हवाले से संविदा शिक्षकों ने वताया कि म.प्र.शासन के निर्देशानुसार तीन साल की संविदा अवधि पूर्ण करने पर इन्हे शीघ्र अतिशीघ्र अध्यापक संवर्ग में संविलियन करने के आदेश है। लेकिन पूर्व मे एक अफसर की तानाशाही के कारण ये संविदा शिक्षक, अध्यापक बनने के फेर में पिछले तीन माह से कार्यालयों के चक्कर लगाते हुये अल्प वेतन में काम कर रहे हैं। 

जब्कि पूरे मध्यप्रदेश में यह प्रक्रिया पूरी कर ली गई है। इनमें वे संविदा शिक्षक भी शामिल है जो गुरूजी से संविदा शिक्षक बने हैं। ज्ञापन में प्रमुख रूप से राज्य कर्मचारी संघ के जिला संयोजक राजकुमार सरैया, राज्य अध्यापक संघ के जिलाध्यक्ष स्नेह रघुवंशी, अरविन्द्र सरैया, राजू शर्मा, राजेश भार्गव, मनोज शर्मा, अनिल दांगी, जगदीश शर्मा, शिवकुमार रघुवंशी, महेन्द्र लोधी, रामखिलावन यादव, रविन्द्र सिकरवार, धर्मेन्द्र यादव, रामविहारी शर्मा, अशोक रघुवंशी, रामकुमार सूर्यवंशी, भूपेन्द्र राजावत, कृष्णपाल लोधी आदि शामिल थे।