Sunday, May 21, 2017

युक्तिकरण पर खडे हुए सवाल: दावे अपत्ति अमान्य, शिक्षक अतिशेष की जद में

शिवपुरी। शिक्षा विभाग मेें प्रचलित युक्तियुक्तकरण प्रक्रिया को लेकर शनिवार को माध्यमिक विद्यालयों के शिक्षकों व अध्यापकों की अतिशेष सूची जिला स्तर से जानकारी के आधार पर प्रदेश स्तर से एजूकेशन पोर्टल पर अपलोड कर जारी कर दी गई है। पोर्टल पर अपलोड सूचियों में व्याप्त विसंगतियों को देख शिक्षकों में सन्नाटा खिच गया है। क्योंकि जारी अतिशेष शिक्षकों की सूची में माध्यमिक विद्यालयों के भृत्यों को शामिल कर दिया गया है जिससे उन विद्यालयों के शिक्षक अतिशेष की जद में आ गये हैं। 

वहीं किसी दूसरे विद्यालय में पदस्थ शिक्षकों व अध्यापकों को दूसरे विद्यालयों में पदांकित बताया गया है। कई शिक्षकों के विषय गलत दर्शाये गये है गणित और अन्य विषयों के शिक्षक आर्ट में और वायलॉजी में प्रदर्शित हो रहे हैं। 

ग्रेजूऐशन के विषय को न मानते हुये पोष्ट ग्रेजूऐशन के विषयों को दर्शाया जाकर नियुक्ति दिनांक परिवर्तित कर दी गई है। तथा सीनियर को जूनियर व जूनियर को सीनियर वताया गया है। पूर्व में जारी आदेशों के पालन में शिक्षक अपनी सेवा पुस्तिकाओं को ऑनलाईन कराकर अपडेट करा देने के बाद सूचियों में भारी विसंगतियां होना सोचनीय विषय है। इस कारण इस युक्तिकरण की पूरी प्रक्रिया पर कई सवाल खडे हो रहे है। 

जारी अतिशेष शिक्षकों की सूची से ऐसा प्रतीत होता है कि विभाग अभी ऑनलाईन प्रक्रिया के लिये तैयार नही है क्योकि विभाग के पास ही अपने कर्मचारियों की सटीक जानकारी नही है। वहीं इसके विपरीत पूर्व में जारी प्राईमरी के अतिशेष शिक्षकों की सूची पर सही दावे आपत्तियों को समिति द्वारा अमान्य किय जाने से सहायक अध्यापकों में भारी रोष व्याप्त हो गया है। 

सहायक अध्यापकों की सही दावे आपत्तियों को अमान्य किये जाने से अध्यापकों में भारी रोष प्राथमिक विद्यालय रातीकिरार में वर्तमान में 122 छात्रों पर कुल 6 शिक्षक पदस्थ हैं जारी आदेशों के अनुसार एक शिक्षक को विद्यालय से अतिशेष होना है शाला पर वरियता का क्रम भी गलत दर्शाया गया था। सीनियर को जूनियर व जूनियर को सीनियर दर्शाया गया था। जब्कि शाला से 3 शिक्षकों को अतिशेष वताया गया था। और पूर्व में एक शिक्षक अन्यत्र पदस्थ होने पर भी इसी विद्यालय में प्रदर्शित हो रहा है। 

जिस पर शिक्षकों द्वारा दावे आपत्ति ऑनलाईन कराकर प्रमाण सहित संकुल प्राचार्य व बीईओं आपत्ति प्रेषित की गई थी जिसकों समिति ने अमान्य कर दिया गया है। ऐस कई उदाहरण और भी देखने को मिल सकते हैं। पूर्व में जारी प्राईमरी के शिक्षको व अध्यापकों की अतिशेष सूची पर सही दावे आपत्ति किये जाने पर समिति द्वारा अमान्य किये जाने से सहायक अध्यापकों में भारी रोष व्याप्त हो गया है।

 कई शिक्षक व अध्यापक गलत जानकारी के कारण अतिशेष सूची से बाहर हैं जिनका मानना है कि जब हम जानकारी सही कराने के लिये दावे आपत्ति ही नही लगायेगें तो हमारा युक्तियुक्तकरण कैसे होगा। जब्कि गलत जानकारी से अतिशेष सूची में आये शिक्षक व अध्यापक परेशान हैं तथा विभाग के चक्कर लगा रहे हैं।

दावे आपत्ति ऑनलाईन न होने शिक्षक परेशान: 
शिक्षा विभाग ने माध्यमिक विद्यालय के शिक्षकों की अतिशेष सूची जारी कर ऑनलाईन दावे आपत्ति के लिये 20 मई से 22 मई तक की तारीख तय की है जब्कि पोर्टल पर दावे आपत्ति के लिये लिंक/ऑप्शन आज 21 मई तक नही खुलने से शिक्षक व अध्यापक परेशान है व विभाग व ऑनलाईन दुकानों के चक्कर लगाते देखे जा सकते हैं।