हर मनुष्य को कानून की जानकारी होना आवश्यक: भदकारिया

कोलारस । जिला विधिक सेवा समिति के तत्वधान में राष्ट्रीय साक्षरता शिविर का आयोजन कृषि मंडी में किया गया। इसमें आम नागरिको, व्यापारियों के साथ किसानो को नि: शुल्क कानून की जानकारियां दी गई। जहां किसानो को मंडी में कैश लेश समस्या के चलते चैको से होने वाली असुविधा और अन्य कानूनी जानकारीयां मुख्य रूप से दी गई।

कार्यक्रम कि शुरूआत कोलारस एसडीआए आरके पांडे ने की और जानकारी देते हुए बताया कि कानून सब का हक है आप के सबके सहयोग से हमे थोड़ा थोड़ा करके कानून कि जानकारी को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक पहुंचाना है। इसके लिए सभी अपने स्तर पर सहयोग दे।

अधिवक्ता धर्मेन्द्र चर्तुवेदी ने जानकारी देते हुए बताया कि ऐसे शिविरो का प्रचार प्रसार नहीं किया जाता जिससे कम लोग शिविरो में शामिल होते है। अगर ऐसे शिविरो का सही प्रचार प्रसार किया जाए तो आयोजन भी बड़ा होगा और ज्यादा लोग ऐसे ािविरो में शामिल होकर कानूनी प्रक्रिया से रूबरू होंगे। 

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मुख्य मजिस्ट्रेट शैलेश भदकारिया ने कहा विधिक साक्षरता शिविर से आशय जनता को कानून से संबिन्धित सामान्य बातों से परिचित कराकर उनका सशक्तीकरण करना है। हर मनुष्य को कानून की जानकारी होनी जरूरी है। और पहले ग्रामो में पंचो द्वारा कई मेटर ग्राम स्तर पर ही निपटा दिये जाते थे। ऐसे ही आज भी लोगो को कुछ समझदारी का परिचल देते हुए जहां तक संभव हो घर पर ही मामला सुलझाने का प्रयास करना चाहिये। हो सके तो धेर्य और संयम का परिचय देते हुए एक पक्ष को नर्म हो जाना चाहिये। 

जिसके अनेक फायदे होंगे जैसे लोग कानूनी लड़ाईयो में अपना समय और पैसा दोनो कि बचत होगी लोग अपना समय परिवार के अच्छे भविशय के लिए दे पायेंगे। और लगातार न्यायलयो पर बड़ता कैसो का बोझ भी कम होगा। साथ ही उन्होंने समाज में फैली कुरीतियों का विरोध करना चाहिए और अन्याय के खिलाफ अपनी आवाज को बुलंद करना चाहिए। 

ज्यादा जानकारी देते हुए न्याययिक मजिस्ट्रेट शैलेश भदाकारिया ने बताया कि गरीबो के लिए शासन ने नि:शुल्क कानूनी लड़ाई लडऩे कि व्यवस्था सूचारू रूप से की है जो वास्तिविक स्थिती में गरीब है। और कानूनी लड़ाई लडऩे के लिए सक्षम नही है। ऐसे व्यक्ति को नि:शुल्क अधिवक्ता और अन्य कानूनी प्रक्रिया के लिए षासन द्वारा खर्च दिया जाता है। जिससे कोई गरीब जो पैसो के आभाव में न्याय से बंचित रहता था वह अव न्याय से वंचित नही रहेगा।

मजिस्ट्रेट जितेन्द्र कुमार शर्मा ने अपने शिविर में कानूनी जानकारी देते हुए बताया समाज में अनेक अपराध फैलते जा रहे हैं। जिससे समाज का सामाजिक वातावरण दूषित हो रहा है। हमें समाज में फैली बुराइयों का डटकर सामना करना चाहिए। साथ ही चैक पर संवंधित कानूनी जानकारी देते हुए बताया फिलहाल देश कि सर्वोच्चम न्यायलय ने चैक को लेकर कड़े आदेश दिये है। 

जिसमें दोगुना जुर्माना तक किया जा सकता है। पहले लोग जुबान और बात पर लाखो के काम हो जाते थे आज के समय में जुबान कि जगह चैक ने ले ली है। इसलिए चैक के कानूनो को कड़ा बनाया जा रहा है। मीटिंग के दौरान मजिस्ट्रेट ने कैश लैश कि परिभाषा को सरलता से समझाते हुए बताया कि चैक कि जगह ओनलाईन ट्रांजेक्शन को बड़ाबा दें जिससे किसानो को बेंको के चक्कर नही लगाने पड़ेंगे और लगातार किसानो को जो असुविधा हो रही है। उससे बचा जा सकेगा। 

कार्यक्रम में मुख्य रूप से मुख्य मजिस्ट्रेट शैलेश भदकारिया, मजिस्ट्रेट जितेन्द्र कुमार शर्मा, कोलारस एसडीएम आरके पांडे, नायब तहसीलदार धीरज सिंह  परिहार, मंडी सचिव , मंडी उपाध्यक्ष राकेश वैश्य, अधिवक्ता बृजेश प्रधान, धर्मेन्द्र चतुर्वेेदी, गोपाल श्रीवास्तव, ईमरान खान, जसप्रीत, सरजन पठान, नरेन्द्र कुशवाह सहित सेंकड़ो किसान और मंडी व्यापारी मौजूद रहे।
Share on Google Plus

About Yuva Bhaskar

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.