Thursday, February 23, 2017

शिवपुरी में सिलोचन का नशा सक्रिय: मासूम बच्चे बन रहे है शिकार

शिवपुरी। शहर के सिटी कोतवाली क्षेत्र में इन दिनों सिलोचन के नशेलची सरेआम माधव चौक पर देखे जा सकते है। इस नशे की गिरफ्त में शहर के मासूम और कबाड़ा बीनने बाले बच्चे आ रहे है। जो सरेआम इस नशे की गिरफ्त में देखे जा सकते है। बाल आयोग अध्यक्ष के ग्रह जिले में सिलोचन का नशा करते मासूम,जमकर किया हंगामा

अब धीरे-धीरे इस नशे ने बच्चों सहित महिलाओं को अपनी गिरफ्त में ले लिया सुलोचन के नशेलचीयों की खबर प्रशासन को भी है लेकिन वह भी इस मामले में मूक दर्शक बना हुआ है। हद तो तब हो गई जब इन सुलोचन के नशेलचीयों ने बीते रोज शहर के हदय स्तभ माधब चौक पर बीती रात्रि जमकर हंगामा भी किया।

जानकारी के अनुसार गुरूवार सुबह तकरीबन 11 बजे ऐसे ही एक नशेलची की करतूत से माधवचौक पर तकरीबन 30 मिनट तक भगदड़ की स्थिति बनी रही। हुआ यह था कि एक सिलोचन का नशा करने वाला 14-15 वर्षीय लडक़ा अचानक लाठी लेकर राहगीरों के पीछे दौडऩे लगा और इस दौरान उसने कई लोगों को अपना शिकार भी बनाया। 

बेकाबू इस बालक को देख माधवचौक क्षेत्र में भगदड़ सी मच गई। कुछ राहगीरों ने ही उस लडक़े को अपने काबू में किया और फिर पुलिस को सूचना दी जिस पर आए पुलिसकर्मी महज मूकदर्शक की भूमिका में नजर आए। ऐसा नहीं कि माधवचौक पर यह वाक्या पहली बार हुआ हो, आए दिन इस तरह की घटनाएं इन नशेलचियों द्वारा अंजाम दी जाती हैं, लेकिन इनकी सुध लेने वाला कोई नजर नहीं आता। 

सिलोचन का नशा करने वाले इन लोगों से राहगीरों के अलावा आसपास के दुकानदार भी खासे भयभीत रहते हैं, कारण यह है कि ये कभी भी नशे की हालत में इन दुकानदारों पर भी हमला करने से बाज नहीं आते हैं। जिला प्रशासन को चाहिए कि वह इनसे संबंधित विभागों को दिशा निर्देशित कर इनका कोई उचित प्रबंध करे जिससे राहगीरों के सामने आने वाली परेशानियों से बचा जा सके।

एक दुधमुही बच्ची के साथ उसकी मां करती है जानलेवा खिलवाड़
माधवचौक पर ही सहायता केन्द्र के नजदीक इन नशेलचियों के साथ एक ऐसी कम उम्र की महिला भी रहती है जो अपने साथ एक दुधमुही बच्ची को लिए  रहती है।

पूरे समय सिलोचन के नशे में रहने वाली उक्त महिला भीख मांगने के लिए दिन में कई बार अपनी इस दुधमुही बच्ची पर ब्लेड से बार भी कर देती है यही सब देखकर वहां से गुजरने वाले राहगीर दया का भाव दिखाते हुए उसे भीख देते हैं। इस महिला की करतूत पर यदि निगाह डाली जाए तो यह काफी शातिर दिमाग वाली महिला है और बीच-बीच में यह भी राहगीरों के साथ गाली गलौंच के साथ मारपीट तक पर उतर आती है। 

शिवपुरी के ही हैं मप्र बाल आयोग के अध्यक्ष 
जिस शिवपुरी शहर में कम उम्र के बच्चे आयोडेक्स, सिलोचन, थिनर, व्हाइटनर का नशा कर रहे हैं उस शहर से मप्र सरकार में केबिनेट मंत्री का दर्शा प्राप्त मप्र बाल आयोग के अध्यक्ष डॉ. राघवेन्द्र शर्मा का निवास है। डॉ. शर्मा शिवपुरी में ही रहकर पले बड़े हैं और अब भी उनका परिवार शिवपुरी में ही निवास करता है। 

डॉ. शर्मा के अध्यक्ष बनने पर शिवपुरीवासियों को उनसे बड़ी आस थी कि वे शिवपुरी के लिए खासकर शिवपुरी के कचरा भीनने वाले एवं इन नशा करने वाले बच्चों के लिए अवश्य कुछ करेंगे, लेकिन उन्हें कई बार सूचना दिए जाने के बाद भी वे भी सुध लेते नजर नहीं आ रहे जो उनकी कार्यक्षमता पर सवालिया निशान खड़े करता है।